close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

WTA Ranking: एश्ले बार्टी दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी बनीं, ऑस्ट्रेलियन को यह ताज 43 साल बाद मिला

ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी इस साल अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में चल रही हैं. उन्होंने इस साल फ्रेंच ओपन का खिताब भी जीता है. 

WTA Ranking: एश्ले बार्टी दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी बनीं, ऑस्ट्रेलियन को यह ताज 43 साल बाद मिला
एश्ले बार्टी ने बर्मिंघम में खेले गए नेचर वैली क्लासिक टूर्नामेंट के फाइनल में जुलिया गार्जेस को 6-3, 7-5 से हराया. (फोटो: ANI)

बर्मिंघम: ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी (Ashleigh Barty) दुनिया की नंबर-1 महिला टेनिस खिलाड़ी बन गई हैं. उन्होंने रविवार को बर्मिंघम डब्ल्यूटीए खिताब जीतकर विश्व रैंकिंग (Tennis Ranking) में पहला स्थान तय कर लिया. एश्ले बार्टी डब्ल्यूटीए रैंकिंग (WTA Ranking) की चोटी पर पहुंचने वाली ऑस्ट्रेलिया (Australia) की दूसरी महिला खिलाड़ी हैं. 

23 साल की एश्ले बार्टी इस साल अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में चल रही हैं. उन्होंने बर्मिंघम में खेले गए नेचर वैली क्लासिक टूर्नामेंट के फाइनल में जुलिया गार्जेस को 6-3, 7-5 से हराया. इस जीत से ही यह तय हो गया कि वे अगली नंबर-1 खिलाड़ी होंगी. डब्ल्यूटीए की नई रैंकिंग सोमवार को जारी होगी. 

यह भी पढ़ें: Badminton: 16 साल की गायत्री गोपीचंद का डबल धमाका, सीनियर टूर्नामेंट में जीते 2 खिताब

डब्ल्यूटीए रैंकिंग जारी होते ही नाओमी ओसाका नंबर-2 पर खिसक जाएंगी. अभी जापान की ओसाका दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी हैं. एश्ले बार्टी ने इस साल फ्रेंच ओपन का खिताब भी जीता है. वे ऑस्ट्रेलिया ओपन में भी क्वार्टर फाइनल तक पहुंची थीं. एश्ले बार्टी ने डब्ल्यूटीए की वेबसाइट (wtatennis) से कहा, ‘मेरा नंबर-1 बनने का सपना सच हो गया है. मैंने और मेरी टीम ने यहां तक पहुंचने के लिए बहुत मेहनत की है. मुझे यहां तक पहुंचने का गर्व है.’ 

एश्ले बार्टी नंबर-1 बनने वाली दूसरी ऑस्ट्रेलियाई हैं. उनसे पहले ऑस्ट्रेलिया की यावोनी गुलागोंग कावली (Evonne Goolagong Cawley) 1976 में दो सप्ताह के लिए शीर्ष रैकिंग पर पहुंची थीं. वैसे, ऑस्ट्रेलिया की मार्गरेट कोर्ट भी 1975 में नंबर-1 बनी थीं, लेकिन तब डब्ल्यूटीए की मौजूदा कंप्यूटर रेटिंग वाली रैकिंग लागू नहीं थी. कंप्यूटर रेटिंग वाली रैकिंग लागू होने के बाद से अब तक दुनिया की 27 महिला खिलाड़ी सिंगल्स रैंकिंग के टॉप पर पहुंच चुकी हैं. 

(इनपुट: भाषा)