close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेघालय खदान हादसा

36 दिन बाद मेघालय की खदान से 1 खनिक का शव बरामद, 14 अन्‍य की तलाश जारी

मेघालय के ईस्ट जयंतिया हिल्स जिले में एक अवैध रैटहोल खदान में पिछले साल 13 दिसंबर को फंसे थे 15 खनिक. 14 अन्‍य की तलाश जारी.

Jan 17, 2019, 09:12 AM IST

'जब हाई पावर पंप थाईलैंड भेज सकते हैं तो मेघालय क्यों नहीं', खदान केस में SC की 10 बातें

मेघालय की कोयला खदान में 13 दिसंबर से फंसे हैं 15 मजदूर. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई में पूछा कि इतने प्रयासों के बाद भी आखिर आप लोग सफल क्‍यों नहीं हो पाए.

Jan 3, 2019, 01:01 PM IST

मेघालय: SC ने राज्‍य सरकार से पूछा, 'खदान से अब तक क्‍यों नहीं बचाए गए मजदूर'

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि 1-1 सेकंड कीमती है. जरूरत पड़े तो सेना की मदद ली जाए. अगर थाईलैंड में हाई पावर पंप भेजे जा सकते हैं तो मेघालय में क्यों नहीं.

Jan 3, 2019, 09:32 AM IST

मेघालय: कोयला खदान में फंसे मजदूरों को भूल जाइए, हादसे से सबक लीजिए

इस सच के पीछे एजेंसियों के बीच तालमेल की कमी और बेहद सुस्त रवैया जिम्मेदार है.

Dec 31, 2018, 03:36 PM IST

मेघालय: 70 फीट नीचे जाने के बाद भी खाली हाथ लौटी NDRF की टीम

रिटायर्ड इंजीनियर-इन-चीफ जेएस गिल ने बताया था, ''पंप आ गए हैं, लेकिन जनरेटर नहीं आए हैं. जनरेटर आने के बाद, पानी को पंप करने में 5 दिन लगेंगे.''

Dec 31, 2018, 12:36 AM IST

मेघालय: खदान में फंसे मजदूरों को निकालने में लगेंगे 5 दिन, पानी को पंप करने की तैयारी

भारतीय नौसेना और एनडीआरएफ की एक टीम वाटर लेवल का पता करने के लिए 370 फुट गहरी खदान के भीतर घुसी है. इस खदान में 15 मजदूर फंसे हुए हैं.

Dec 30, 2018, 05:36 PM IST

मेघालय: आज एक बार फिर खदान के भीतर जाएगी बचाव टीम, पानी का स्तर है बड़ी समस्या

जिला प्रशासन ने बताया कि मानव श्रम और मशीनों से जुड़े तकनीकी कारणों के चलते अभियान को बढ़ाया नहीं जा सका.

Dec 30, 2018, 12:05 AM IST

18वां दिन : मेघालय की खदान में फंसे मजदूरों को निकालने में मदद करेगी नौसेना, 3 हेलमेट बरामद

मेघालय की 370 फुट गहरी इस अवैध कोयला खदान में 13 दिसंबर से फंसे 15 खनिकों को बचाने के अभियान में शनिवार को भारतीय नौसेना भी शामिल होगी.

Dec 29, 2018, 11:16 AM IST