dear zindagi

डियर जिंदगी: जो मेरे घर कभी नहीं आएंगे...

डियर जिंदगी: जो मेरे घर कभी नहीं आएंगे...

दुनिया छोटी कोशिश के मरहम का नाम है, इससे ही जिंदगी को रास्‍ते मिलते हैं. 

Nov 2, 2018, 09:01 AM IST
डियर जिंदगी : उसके ‘जैसा’ कुछ नहीं होता!

डियर जिंदगी : उसके ‘जैसा’ कुछ नहीं होता!

कोई किसी के जैसा नहीं होता! हम किसी का पूरा सच नहीं जानते, इसलिए उसके जैसे अरमान में घुलते रहते हैं, यह जीवन के प्रति सबसे बड़ा छल है.  

Nov 1, 2018, 11:44 AM IST
डियर जिंदगी:  गैस चैंबर; बच्‍चे आपके हैं, सरकार और स्‍कूल के नहीं!

डियर जिंदगी: गैस चैंबर; बच्‍चे आपके हैं, सरकार और स्‍कूल के नहीं!

प्रदूषण के नाम पर न तो वोट कटते हैं. न ही साफ हवा होने से अधिक मिलते हैं. इसलिए हवा, पानी किसी की चिंता में शामिल नहीं. पराली जलाने से रोकने में ‘खतरा’ है, इसलिए प्रदूषण की जगह पराली पर ध्‍यान दिया जा रहा है!

Oct 31, 2018, 10:58 AM IST
डियर जिंदगी : रो लो, मन हल्‍का हो जाएगा!

डियर जिंदगी : रो लो, मन हल्‍का हो जाएगा!

हमारे यहां तो रोना सहज अभिव्‍यक्ति रही है. रोने से मन हल्‍का होता है. ऐसा हम बचपन से सुनते आए हैं, लेकिन कुछ अधिक शहरी होते ही, हमारे मिजाज में कठोरता ऐसी घुली कि हंसना तो टीवी, मोबाइल के सहारे बढ़ गया, लेकिन रोकर मन के मैल को साफ करने का चलन छूट गया है.

Oct 30, 2018, 10:43 AM IST
डियर जिंदगी : अकेलेपन की ‘इमरजेंसी’

डियर जिंदगी : अकेलेपन की ‘इमरजेंसी’

दूसरों के प्रति प्रेम में कमी, महत्वाकांक्षा का पहाड़ हमें एक ऐसी दुनिया बनाने की ओर धकेल रहा है, जहां हमारा मनुष्‍यता से संपर्क हर दिन कम हो रहा है!

Oct 29, 2018, 10:34 AM IST
डियर जिंदगी: कितने 'नए' हैं हम!

डियर जिंदगी: कितने 'नए' हैं हम!

नया कहने से नहीं होता, नया दिखना होता है. नया साबित करना होता है. नया पहनने की चीज नहीं है, वह नितांत आंतरिक विचार है. मन के भीतर अगर आप नहीं बदले, तो बाहर का कोई अर्थ नहीं!

Oct 26, 2018, 08:43 AM IST
डियर जिंदगी: कब से ‘उनसे’ मिले नहीं…

डियर जिंदगी: कब से ‘उनसे’ मिले नहीं…

जब हम जिंदगी को ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई करने वाली सारी खिड़कियां बंद कर देते हैं, तो उससे स्‍वाभाविक रूप से बेचैनी होती है. जो धीरे-धीरे रूखेपन में बदल जाती है.

Oct 25, 2018, 10:52 AM IST
डियर जिंदगी : कम नंबर लाने वाला बच्‍चा!

डियर जिंदगी : कम नंबर लाने वाला बच्‍चा!

हम बच्‍चों की ऊर्जा को किताब के बस्‍ते में बंद रखने की ‘कुप्रथा’ से अभी तक नहीं उबर पाए हैं. हम बच्‍चे के नाम पर अपने यशगान से जितने चिपके रहेंगे, बच्‍चे का उतना ही नुकसान होगा.

Oct 24, 2018, 11:07 AM IST
डियर जिंदगी : कांच के सपने और समझ की आंच…

डियर जिंदगी : कांच के सपने और समझ की आंच…

स्‍कूल सपनों की फैक्‍ट्री बन गए हैं, जहां से टॉपर्स, होनहार बच्‍चे पैदा करने का दावा कुछ इस अदा से किया जाता है कि हम उनके मायाजाल में सहज उलझते जाते हैं.

Oct 23, 2018, 10:31 AM IST
डियर जिंदगी: माता-पिता का 'सुख' चुनते हुए...

डियर जिंदगी: माता-पिता का 'सुख' चुनते हुए...

हम कैसे मान लेते हैं कि माता-पिता का पूरा जीवन केवल बच्चों के समीप ही बुना होना चाहिए. माता पिता का अपना कोई सुख, अपनी कोई दुनिया हमारी समझ से भी कोसों दूर लगती है.

Oct 22, 2018, 09:40 AM IST
डियर जिंदगी : माता-पिता के आंसुओं के बीच 'सुख की कथा' नहीं सुनी जा सकती...

डियर जिंदगी : माता-पिता के आंसुओं के बीच 'सुख की कथा' नहीं सुनी जा सकती...

बच्चों को दी जाने वाली शिक्षा और संस्कार पर बहुत गंभीरता से विचार की जरूरत है. अगर इस पर समय रहते संशोधन नहीं हुआ तो हम बुजुर्गों की एक ऐसी दुनिया बना देंगे, जहां तनाव, डिप्रेशन और उदासी के घाव के अतिरिक्त कुछ नहीं होगा. और यह जरूर याद रहे कि हम इस दुनिया से बहुत दूर नहीं होंगे!

Oct 19, 2018, 09:20 AM IST
डियर जिंदगी: ...जो कुछ न दे सके

डियर जिंदगी: ...जो कुछ न दे सके

 समय का छोटा सा टुकड़ा उनके लिए भी निकालना चाहिए, जिन्होंने 'धूप' के वक्त बिना शर्त हमें अपनी छांव देने के साथ ही, हमारे होने में अहम भूमिका का निर्वाह किया.

Oct 18, 2018, 09:17 AM IST
डियर जिंदगी : साथ रहते हुए स्‍वतंत्र होना!

डियर जिंदगी : साथ रहते हुए स्‍वतंत्र होना!

जहां भाव से अधिक ‘समझ’ जमा हो जाती है, वहां रिश्‍तों में दरार की गुंजाइश बढ़ जाती है. रिश्‍तों के नाम भले वही हों, लेकिन उनके मिजाज, व्‍यवहार में जो ‘ताजी’ हवा आई है, उसके अनुकूल स्‍वयं को तैयार करना होगा.

Oct 17, 2018, 10:19 AM IST
डियर जिंदगी : ‘आईना, मुझसे मेरी पहली सी सूरत मांगे...’

डियर जिंदगी : ‘आईना, मुझसे मेरी पहली सी सूरत मांगे...’

हम दो कदम आगे बढ़ते हैं, तो पीछे के उजालों को भूलने लगते हैं. यह पीछे छूटते उजाले धीरे-धीरे हमारी सूरत बदलने लगते हैं. एक दिन होता यह है कि आईना, हमारी हमारी शक्‍ल भूलने लगता है. पहली सी सूरत मांगने लगता है!

Oct 16, 2018, 10:01 AM IST
डियर जिंदगी: अपेक्षा का कैक्टस और स्नेह का जंगल

डियर जिंदगी: अपेक्षा का कैक्टस और स्नेह का जंगल

बच्चों को होशियार, चतुर, 'चांद' पर जाने लायक बनाने की कोशिश में हम स्नेह की चूक कर रहे हैं, जो एक हरे-भरे, लहलहाते जीवन को सुखद आत्मीयता की जगह कहीं अधिक कैक्टस और कंटीली झाड़ियों से भर रही है.

Oct 15, 2018, 09:11 AM IST
डियर जिंदगी : परवरिश की परीक्षा!

डियर जिंदगी : परवरिश की परीक्षा!

भारत में हर 13 में से एक व्यक्ति मानसिक बीमारी से पीड़ित है. अगले पांच बरस में यह अनुपात हर पांच में से एक व्यक्ति तक पहुंच सकता है.

Oct 12, 2018, 09:41 AM IST
डियर जिंदगी : कितने उदार हैं, हम!

डियर जिंदगी : कितने उदार हैं, हम!

अपने बच्चों के ही मन की बात को समझ पाना. उनके सपनों को पढ़ सकना, अरमां की गहराई तक जा पाना जो आप पर निर्भर हैं, मुश्किल काम नहीं, बस अपनी ख्‍वाहिश उन पर थोपने से मुक्‍त हो जाइए.

Oct 11, 2018, 10:20 AM IST
डियर जिंदगी : दुख रास्‍ता है, रुकने की जगह नहीं…

डियर जिंदगी : दुख रास्‍ता है, रुकने की जगह नहीं…

आंसू तो एक प्रकार की सफाई हैं. वह मन में जमे दुख के मैल को आसानी से डिटर्जेंट की तरह निकाल देते हैं. इसलिए आंसुओं से नहीं डरना है, बल्कि इसकी चिंता करनी हैं कि कहीं आंसू निकलने बंद ही न हो जाएं.

Oct 10, 2018, 09:04 AM IST
डियर जिंदगी : मेरा होना सबका होना है!

डियर जिंदगी : मेरा होना सबका होना है!

दुविधा और मन की दुर्बलता से जैसे ही आशंका के गुब्‍बारे मिलते हैं, वह मन में ऐसी गरम हवा का निर्माण करते हैं, जिसमें भीतर की कोमलता, उदारता और स्‍नेह कुछ ही मिनट में छू मंतर हो जाते हैं.

Oct 9, 2018, 08:59 AM IST
डियर जिंदगी : जीवन के गाल पर डिठौना!

डियर जिंदगी : जीवन के गाल पर डिठौना!

सुख के बीच दुख, असुविधा की आहट, अभ्‍यास भी बेहद जरूरी है. इसके बिना सुख की अनुभूति अधूरी है.

Oct 8, 2018, 09:36 AM IST