kirtan

कीर्तन करने से बढ़ सकती है आपकी याददाश्त

ध्यान की साधारण प्रक्रिया कीर्तन क्रिया और संगीत से याद्दाश्त और क्रियाकलापों में उल्लेखनीय रूप से सुधार आ सकता है। याददाश्त और सामान्य व्यवहार वे स्थितियां हैं जो अल्जाइमर के शुरूआती चरण में प्रभावित होती हैं और इससे अल्जाइमर के शुरूआती चरणों का संकेत मिलता है। अमेरिका की वेस्ट वर्जीनिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने सब्जेक्टिव कॉग्निटिव डिक्लाइन (एससीडी) से पीड़ित 60 बुजुर्गों को शोध में शामिल किया । इन लोगों को दो समूहों में बांटा गया, एक समूह को कीर्तन क्रिया वाले कार्यक्रम में रखा गया और दूसरे को संगीत वाले कार्यक्रम में शामिल किया गया। इन लोगों से कहा गया कि वह 12 हफ्तों तक प्रति दिन 12 मिनट कीर्तन क्रिया या संगीत का अभ्यास करें।

Jan 23, 2017, 03:22 PM IST

कीर्तन और योग करने से बढ़ेगी मेमोरी, दूर होगी अल्जाइमर की बीमारी

तीन महीने तक योग और ध्यान, विशेष रूप से सदियों पुरानी भारतीय प्रथा कीर्तन, करने से याददाश्त बढ़ाने और अल्जाइमर जैसी बीमारी से लड़ने में मदद मिल सकती है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन के बाद यह जानकारी दी है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया लॉस एंजिलिस (यूसीएलए) के अमेरिकी न्यूरोसाइंटिस्ट की एक टीम ने एक अध्ययन में पाया है कि योग और ध्यान करने से संज्ञानात्मक और भावनात्मक समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है। इन समस्याओं से अक्सर अल्जाइमर और इस तरह की अन्य बीमारियों के होने का खतरा रहता है।

मई 18, 2016, 04:16 PM IST