close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

sharda chitfund scam

सारधा चिटफंड घोटाला: SC ने कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से मांगा जवाब

कोर्ट ने राजीव कुमार को जवाब के लिए 1 हफ्ते का समय दिया है.

Apr 8, 2019, 02:21 PM IST

ममता-CBI विवाद: मामले की सुनवाई से जस्टिस नागेश्वर राव ने किया खुद को अलग, मंगलवार को होगी सुनवाई

पश्चिमी बंगाल चीफसेक्रेट्री मलय डे, DGP वीरेन्द्र कुमार, कोलकाता कमिश्नर राजीव कुमार ने अवमानना नोटिस के जवाब में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कोर्ट से बिना शर्त माफी की मांग की है. कोर्ट को तय करना है कि इन्हें कोर्ट में व्यक्तिगत रूप से पेश होने की ज़रूरत है या नहीं.

Feb 20, 2019, 12:53 PM IST

अनशन के आसन से मोदी पर राहुल'वार' !

2 जून, 2014 को जब औपचारिक रूप से तेलंगाना राज्य का गठन हुआ तब देश की सियासी पिक्चर बदल चुकी थी. केंद्र में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन चुके थे तो वहीं एनडीए के सहयोगी रहे चंद्रबाबू नायडू को आंध्रप्रदेश का ताज मिला. सालों तक चंद्रबाबू नायडू नरेंद्र मोदी के साथ ढाल बन कर खड़े रहे लेकिन सूबे में विपक्षी जगन मोहन की लोकप्रियता से खार खाए नायडू ने विशेष राज्य के दर्जे की मांग को हवा दी और 16 मार्च 2018 को एनडीए को अलविदा कह दिया. तो वहीं दुसरी ओर चंद रोज पहले कोलकाता भी ऐसी ही तस्वीरों की गवाह बनी थी जब शारदा चिटफंड घोटाले में सीबीआई टीम के सूबे में दाखिल होते ही ममता बनर्जी ने हंगामा खड़ा कर दिया था. कोलकाता पुलिस कमिश्नर को पूछताछ से बचाने के लिए ममता धरने पर बैठ गईं थी.

Feb 11, 2019, 09:21 PM IST

शारदा चिटफंड घोटालाः CBI के समक्ष पेश हुए पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार और कुणाल घोष

रविवार को जांच एजेंसी ने कुमार से अकेले और फिर घोष के साथ पूछताछ की थी. यह पूछताछ आठ घंटे से अधिक समय तक चली थी.

Feb 11, 2019, 03:26 PM IST

CBI से नहीं, मोदी से डरी 'दीदी' ?

सीबीआई पर एक बार फिर संग्राम छिड़ गया है. इस बार जंग जांच एजेंसी के अंदरखाने की नहीं है, बखेड़ा सीबीआई की कार्रवाई और कामकाज के तौर-तरीक़े को लेकर खड़ा हुआ है. कोलकाता के पुलिस कमिश्नर की ढाल बनकर ममता बनर्जी सर्द रात में ही धरने पर बैठीं तो मुल्क का सियासी पारा परवान चढ़ने लगा. मतलब ये कि सीबीआई के बहाने देश की तमाम विपक्षी पार्टियों को मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चाबंदी का एक मुकम्मल मौक़ा हाथ लग गया हैं. इस लामबंदी में नेता ये भी भूल गए कि कहीं न कहीं वो अपने पुराने स्टैंड से यू-टर्न ले रहे हैं. मसलन भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ बुलंद कर के देश और खासतौर से दिल्ली की सियासत में अपनी पहचान बना वाले केजरीवाल ने भी एक बार ये नहीं सोचा कि शारदा घोटाले के आरोपियों को बचाने का इल्जाम झेल रही ममता का समर्थन आखिरकार वो किस बिनाह पर कर रहे है.

Feb 4, 2019, 10:14 PM IST