सावधान! Smartphone में न लगाएं ये Wallpaper, नहीं तो Hack हो जाएगा आपका फोन; देखें और तुरंत हटाएं
X

सावधान! Smartphone में न लगाएं ये Wallpaper, नहीं तो Hack हो जाएगा आपका फोन; देखें और तुरंत हटाएं

Netflix पर Squid Game सीरीज काफी पॉपुलर हो रही है. इसका क्रेज इतना है कि लोग Squid Game के वॉलपेपर मोबाइल पर लगा रहे हैं. लेकिन यह खतरनाक साबित हो सकता है. आइए जानते हैं कैसे...

 

सावधान! Smartphone में न लगाएं ये Wallpaper, नहीं तो Hack हो जाएगा आपका फोन; देखें और तुरंत हटाएं

नई दिल्ली. नेटफ्लिक्स (Netflix) की स्क्विड गेम (Squid Game) सीरीज काफी पॉपुलर हो गई है. लोगों को यह सीरीज काफी पसंद आ रही है.  इस सीरीज का क्रेज इतना बढ़ गया है कि लोग अपने स्मार्टफोन पर इसके वॉलपेपर लगा रहे हैं. लेकिन यह आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. साइबर अपराधियों ने कथित तौर पर Google Play Store पर स्क्वीड गेम फोन वॉलपेपर एप के रूप में मैलवेयर प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की है. 

Google Play Store पर हुआ Block

एप को कथित तौर पर एंड्रॉयड सिक्योरिटी रिसर्चर द्वारा ट्विटर पर @ReBensk हैंडल से खोजा गया था. फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, Google द्वारा खोजे जाने से पहले दुर्भावनापूर्ण एप, स्क्विड गेम वॉलपेपर 4K HD को कम से कम 5,000 बार डाउनलोड किया जा चुका है और कंपनी ने इसे Play Store पर ब्लॉक कर दिया है. स्क्विड गेम टीवी सीरीज फैन्स के लिए यह वॉलपेपर एप तैयार किया गया है. ट्वीट में कहा गया है कि स्क्विड गेम से संबंधित कई दुर्भावनापूर्ण एंड्रॉइड एप हैं. 

करार दिया गया वाला एंड्रॉयड जोकर 

@ReBensk's की चेतावनी का बाद में ईएसईटी एंड्रॉयड सुरक्षा शोधकर्ता लुकास स्टेफानको द्वारा विश्लेषण किया गया है. ईएसईटी के स्टेफांको ने एप को स्क्विड गेम-थीम वाला एंड्रॉयड जोकर करार दिया है. बता दें कि जोकर नाम का मैलवेयर सबसे खतरनाक है. इसे पहली बार साल 2017 में खोजा गया था. 2020 में, Google ने जोकर मैलवेयर के साथ कंपनी की लंबी लड़ाई पर एक ब्लॉग पोस्ट शेयर किया था.

काफी फेमस सीरीज है Squid Game

स्क्विड गेम्स वर्तमान में नेटफ्लिक्स पर सबसे लोकप्रिय सीरीज है. स्टेफ़ानको के अनुसार, Google Play Store पर 200 से अधिक स्क्विड गेम से संबंधित ऐप्स उपलब्ध हैं. उन्होंने ट्वीट में कहा, 'ऐसा लगता है कि इस सीरीज के चलते लोग इन फर्जी एप्स से पैसा बना रहे हैं. ऑफिशियल न होने के बावजूद इन एप्स को 10 दिन में 1 मिलियन से ज्यादा बार इंस्टॉल किया गया है.'

Trending news