close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फेक न्यूज के खिलाफ Facebook की बड़ी कार्रवाई, 6 महीनों में हटाए 300 करोड़ अकाउंट

फेसबुक के सीईओ ने अपने एक बयान में कहा कि डेटा सुरक्षा को लेकर कंपनी बहुत गंभीर है. उन्होंने कहा कि डेटा सुरक्षा को लेकर कंपनी जितना खर्च करती है, उतना ट्विटर एक साल में रेवेन्यू तक नही जुटा पाती है. 

फेक न्यूज के खिलाफ Facebook की बड़ी कार्रवाई, 6 महीनों में हटाए 300 करोड़ अकाउंट
पिछले दिनों लाइव स्ट्रीमिंग के नियम को भी सख्त किया गया. (फाइल)

नई दिल्ली: फेक न्यूज का प्रभाव लगातार बढ़ता जा रहा है, जिसकी वजह से सभी देश की सरकार सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को लेकर नियम सख्त करती जा रही है. फेसबुक, व्हॉट्सएप और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेफॉर्म के लिए ये चुनौतियां बढ़ती ही जा रही हैं. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक,  फेसबुक ने अक्टूबर 2018 से मार्च 2019 के बीच 300 करोड़ से ज्यादा फेक अकाउंट डिलीट किए हैं. 70 लाख से ज्यादा हेट स्पीच के पोस्ट हटाए गए हैं.

फेसबुक के सीईओ ने अपने एक बयान में कहा कि डेटा सुरक्षा को लेकर कंपनी बहुत गंभीर है. उन्होंने कहा कि डेटा सुरक्षा को लेकर कंपनी जितना खर्च करती है, उतना ट्विटर एक साल में रेवेन्यू तक नही जुटा पाती है. उन्होंने कहा कि फेसबुक चाइल्ड एब्यूज इमेज, वायलेंस और टेरर को सपोर्ट करने वाल पोस्ट को कभी स्पॉन्सर नहीं करती है. कंपनी की तरफ से कहा गया कि मंथली एक्टिव यूजर्स में से 5 फीसदी फेक अकाउंट होते हैं.

Facbook यूजर्स के लिए अहम खबर, लाइव स्ट्रीमिंग के नियम बदले गए

पिछले दिनों न्यूजीलैंड में मस्जिदों पर हमले की फेसबुक पर लाइव स्ट्रीमिंग की घटना के बाद फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म पर इसके नियम और कड़े बना दिए, जो विशेष रूप से इसके लाइव कैमरा फीचर से जोड़ दिए गए हैं. फेसबुक की संशोधित नीतियों के अंतर्गत जो व्यक्ति फेसबुक की सबसे गंभीर नीतियों का उल्लंघन करता है, उसे एक निश्चित समय के लिए लाइव स्ट्रीमिंग करने से प्रतिबंधित (जैसे पहली बार इसका उल्लंघन करने पर 30 दिनों के लिए) कर दिया जाएगा.