close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Google के स्मार्टफोन Pixel 4 में रडार टेक्नोलॉजी का होगा इस्तेमाल, इशारों पर करेगा काम

मोशन सेंसिंग फेस अनलॉक फीचर दूसरे स्मार्टफोन से बिल्कुल अलग होगा. फोन हाथ में लेते ही यह अनलॉक हो जाएगा.

Google के स्मार्टफोन Pixel 4 में रडार टेक्नोलॉजी का होगा इस्तेमाल, इशारों पर करेगा काम
(फोटो साभार -फोटो क्रॉप फ्रॉम वीडियो पोस्ट ऑन गूगल.)

नई दिल्ली: टेक्नोलॉजी की दुनिया बहुत आगे निकल चुकी है. ऐसे में गूगल (Google) Pixel 4 स्मार्टफोन लेकर आ रही है जिसमें एडवांस्ड फेस रिकॉग्निशन फीचर को शामिल किया गया है. कंपनी ने एक आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है. 22 सेकेंड के इस वीडियो को देखकर साफ पता चलता है कि फोन के सामने चेहरा लाते ही वह अनलॉक हो जाता है. उसके बाद आप उसे हाथ के मूववेंट से कंट्रोल कर सकते हैं. स्वाइप करने के लिए फोन को छूने की जरूरत नहीं होगी.

गूगल ब्लॉग पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, पिछले पांच सालों से कंपनी मोशन सेंसर टेक्नोलॉजी पर काम कर रही थी. इस टेक्नोलॉजी को Soli या मोशन सेंसिंग रडार नाम दिया गया है. इस टेक्नोलॉजी की मदद से गाने को बंद करना, अलार्म बंद करना, फोन कॉल को साइलेंट करना बहुत आसान हो जाएगा. इन कामों के लिए फोन को छूने की जरूरत नहीं होगी. सिर्फ वेव (Waving) से ये सारे काम किए जा सकते हैं.

इसके अलावा फेस अनलॉक फीचर शामिल किया जाएगा. कंपनी का कहना है कि वैसे तो यह पुराना फीचर है, लेकिन हमने इसमें अलग तरह से इंजीनियरिंग का इस्तेमाल किया है. दूसरे स्मार्टफोन के सामने जाकर इंतजार करना पड़ता है तब फोन अनलॉक होता है. Pixel 4 फोन को हाथ में लेते ही यह अनलॉक हो जाएगा.

इस बीच The Verge की रिपोर्ट के मुताबिक, Google अमेरिकी शहरों में घूम-घूम कर लोगों की फोटो ले रहा है और बदले में डॉलर बांट रहा है. अगर कोई शख्स फेसियल स्कैन के लिए तैयार होता है तो बदले में उसे 5 डॉलर ( करीब 350 रुपये) मिलते हैं. इससे पहले भी इस तरह की खबरें मीडिया में आ चुकी हैं कि गूगल के लोग सड़कों पर घूम-घूम कर फेस स्कैन कर पैसे बांट रहे हैं. इस रिपोर्ट की पुष्टि करते हुए गूगल की तरफ से कहा गया कि, कंपनी ने फील्ड रिसर्च का काम किया है. हम फेस रिकॉग्निशन फीचर के एल्गोरिदम को ज्यादा कारगर बनाना चाहते हैं, इसलिए इस तरह का सर्वे किया गया.