close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अगर आपका फोन खो गया है या बदमाशों ने छीन लिया है? तो ऐसे पता करें लोकेशन

अगर आप एक मिनट के लिए भी स्मार्टफोन से दूर होते हैं तो लगता है जैसे कुछ खो गया है. रात को सोने से पहले और सुबह आंख खोलते ही लोगों को स्मार्टफोन की जरूरत महसूस होने लगी है.

अगर आपका फोन खो गया है या बदमाशों ने छीन लिया है? तो ऐसे पता करें लोकेशन
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली: स्मार्टफोन हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है. अपने देश में वर्तमान में 45 करोड़ से ज्यादा स्मार्टफोन यूजर्स हैं. इन सभी यूजर्स में एकबात कॉमन है, अगर फोन नजर से दूर हो जाए तो दिल बेचैन हो जाता है. ऐसा कई बार होता है कि आपका फोन साइलेंट मोड पर होता है और वह घर में ही कहीं गुम हो जाता है. ऐसे में उसे खोजना मुश्किल हो जाता है. जब तक वह आपको मिल नहीं जाता है तब तक आप परेशान रहते हैं. कई बार बदमाश आपका फोन छीनकर भाग जाते हैं. ऐसे में बहुत परेशानी होती है. लेकिन, गूगल (Google) ने इसका हल निकाल लिया है. हालांकि, आपके फोन का डेटा, GPS और गूगल अकाउंट एक्टिव होना चाहिए. अगर ये तीनों एक्टिव हैं तो आसानी से फोन ढूंढा जा सकता है.

ऐसे पता करें लोकेशन
1. पहले डेस्कटॉप पर जाकर जीमेल लॉगिन करें. लॉगिन करने के बाद होमपेज पर जाना है.
2. गूगल अकाउंट में जाकर सिक्योरिटी वाले ऑप्शन को चूज करना है.
3. नीचे स्क्रॉल करने पर "Find a lost or stolen phone'' का ऑप्शन दिखता है जिसपर क्लिक करना है.
4. इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपको दोबारा जीमेल पासवर्ड डालना होगा. इसके बाद आपका GPS खुल जाएगा.

अगर फोन आसपास ही है तो GPS पर ग्रीन सिग्नल दिखाई देगा. अगर करेंट लोकेशन स्मार्टफोन की लास्ट लोकेशन है तो वह ग्रे ब्लिंक करेगा. कुल मिलाकर यह आपको फोन के लोकेशन के बारे में बताएगा. अगर प्ले साउंड पर क्लिक करते हैं तो पांच मिनट तक गूगल आपके फोन पर रिंग करेगा. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपका फोन साइलेंट मोड पर है. दूसरा ऑप्शन डेटा सिक्योर करने का है. इस ऑप्शन को चूज करने पर आपका फोन लॉक हो जाएगा साथ ही गूगल अकाउंट को साइन आउट कर दिया जाएगा. इससे आपके डेटा से कोई छेड़खानी नहीं कर पाएगा. लॉक होने के बाद भी लोकेशन की ट्रेस की जा सकती है. अगर आपका फोन नहीं मिल रहा है तो डेटा मिटाने का भी ऑप्शन है. लेकिन, डेटा इरेज करने के बाद इसके लोकेशन के बारे में नहीं पता कर सकते हैं.