close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सरकार ने टिक टोक को जारी किया नोटिस, 22 तक देना होगा जवाब

वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिक टोक एक बार फिर से मुश्किल में है. इस बार सरकार ने टिक टोक को नोटिस भेजकर 24 सवालों के जवाब मांगे हैं. मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफारमेशन टेक्नोलॉजी ने टिक टोक से 24 सवालों के जवाब मांगे है.

सरकार ने टिक टोक को जारी किया नोटिस, 22 तक देना होगा जवाब

नई दिल्ली : वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिक टोक एक बार फिर से मुश्किल में है. इस बार सरकार ने टिक टोक को नोटिस भेजकर 24 सवालों के जवाब मांगे हैं. मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफारमेशन टेक्नोलॉजी ने टिक टोक से 24 सवालों के जवाब मांगे है. इन सवालों का जवाब कंपनी को 22 जुलाई तक देना होगा. सरकार की तरफ से एंटी इंडिया कंटेंट और ऑब्सिन कंटेंट पर सवाल उठाए गए हैं. सरकार ने अंडर ऐज यूजर्स की मॉनिटरिंग और टिक टोक कैसे आपत्तिजनक कंटेंट को हटाता है और यूजर डेटा को कैसे कलेक्ट और शेयर करने पर भी सवाल उठाए.

एक तरफ जहां कंपनी सभी सवालों के जवाब जुटाने में लगी है, दूसरी तरफ फैन्स और यूजर्स इस विवाद से नाखुश हैं. टिक टोक के लिए भारत एक बड़ा मार्केट है और बड़े शहरों से लेकर छोटे शहरों तक, करोड़ों लोग इस एप को इस्तेमाल करते हैं. आम जनता के अलावा सेलेब्रिटज भी इस एप को यूज करते हैं. नोटिस के बाद ये सेलेब्स हर किसी को निडर होकर कंटेंट बनाने की सलाह दे रहे हैं.

इस बारे में मशहूर VJ रणविजय सिंघा कहते हैं कि टिक टोक यूजर होने के नाते हमें क्रिएटिविटी और पॉजिटिविटी पर फोकस करना चाहिए. उन्होंने यूजर्स को पहले से ज्यादा जिम्मेदारी से कंटेंट बनाने की सलाह दी है. वहीं पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा ने ट्विटर पर लिखा मैंने तीन महीने पहले क्रिकेट चैनल शुरू किया है, और यह सफर काफी शानदार रहा. उन्होंने टिक टोक को सपोर्ट करते हुए लिखा हमें आने वाले समय में और क्रिएटिविटी की उम्मीद करनी चाहिए.

मशहूर पत्रकार चित्रा नारायणनन ने एप का सपोर्ट किया. उन्होंने कुछ लोग टिकटोक की पॉपुलरिटी से परेशान हैं. व्हाट्सएप पर जितने भी हंसी-मजाक वाले वीडिया शेयर किए जाते हैं, वे टिक टोक की वजह से ही हैं. टिक टोक के पास सवालों का जवाब देने के लिए कुछ दिन का ही समय बचा है. इससे पहले अप्रैल में मद्रास हाई कोर्ट के आर्डर के बाद मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफारमेशन टेक्नोलॉजी ने गूगल और एपल को अपने एप स्टोर से एप्प को हटाने का आदेश दिया था.

(रिपोर्ट : दानिश आनंद)