Facebook पर बिक रहा है सिर्फ 25 हजार रुपये में iPhone 12 Pro? जानिए क्या है आखिर सच्चाई

फेसबुक पर आईफोन के नाम पर लोगों को ठगा जा रहा है. अगर आपको किसी फेसबुक पेज पर बेहद सस्ते में आईफोन दिखे, तो सर्तक हो जाएं. खरीदने पर आप भी ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार हो सकते हैं. हाल ही में एक शख्स फेसबुक पर सिर्फ 25 हजार में iPhone 12 Pro बेचकर लोगों को ठग रहा था. आइए जानते हैं क्या है मामला...

Facebook पर बिक रहा है सिर्फ 25 हजार रुपये में iPhone 12 Pro? जानिए क्या है आखिर सच्चाई

नई दिल्ली. भारत में आईफोन और महंगे स्मार्टफोन्स का काफी क्रेज है. लोग चाहते हैं महंगा फोन काफी सस्ते में मिल जाए. लेकिन इसी का फायदा ठग उठाते हैं. वो फर्जी पेज बनाकर नकली सामान बेचकर लोगों को ठगते हैं. लेकिन लोगों को लालच से बचना चाहिए और देखना चाहिए कि वो किससे फोन ऑनलाइन ऑर्डर कर रहे हैं. अमेजन सेल में आईफोन को सस्ते में बेच रहा था. लोगों ने वहां से इसलिए खरीदा क्योंकि वो एक ऑथैंटिक शॉपिंग वेबसाइट है. लेकिन कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर फर्जी पेज बनाकर भी यह काम करते हैं. उससे आपको बचना चाहिए. हाल ही में पुलिस ने ऐसे शख्स को पकड़ा है, जो फेसबुक पर फर्जी पेज बनाकर आईफोन 12 प्रो सिर्फ 25 हजार में बेच रहा था और पैसे लेकर गायब हो जाता था. आइए जानते हैं क्या है मामला...

फेसबुक पर 25 हजार रुपये में आईफोन बेच रहा था शख्स

हरियाणा के फरीदाबाद से एक 22 वर्षीय व्यक्ति को एप्पल के सस्ते आईफोन बेचने के बहाने कई लोगों को ठगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आरोपी की पहचान फरीदाबाद निवासी योगेश तिवारी के रूप में हुई है. 22 जुलाई को एक शिकायत प्राप्त हुई जिसमें एक महिला ने कहा कि उसने फोनोफी नाम की एक मोबाइल शॉप के सोशल मीडिया पेज पर एक विज्ञापन देखा जो एक आईफोन 12 प्रो को 25,000 में बेच रहा था, जबकि बाजार में वास्तविक कीमत 1,25,000 है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि महिला ने फोनोफी से संपर्क किया और कूरियर के लिए अपना डाक पता प्रदान किया और ऑनलाइन भुगतान गेटवे के माध्यम से फोनोफी के खाते में 24,290 रुपये का भुगतान भी किया. अधिकारी ने कहा कि कई दिनों के इंतजार के बाद, महिला ने फिर फोनोफी से संपर्क किया और पाया कि उसे उसके सोशल मीडिया अकाउंट्स पर ब्लॉक कर दिया गया था, जिसके बाद उसने शिकायत दर्ज कराई.

उन्होंने कहा कि जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि मोबाइल फोन की लोकेशन फरीदाबाद में थी, लेकिन स्वामित्व बिहार में था. उपायुक्त (उत्तर) एंटो अल्फोंस ने कहा, 'पुलिस को एक वीडियो मिला जिसमें तमिलनाडु के चेन्नई निवासी चंद्रू ने भी फोनोफी द्वारा धोखाधड़ी का आरोप लगाया था. कथित मोबाइल फोन से जुड़े ऑनलाइन वॉलेट विवरण भी पेमेंट गेटवे से एकत्र किए गए थे. बाद में, आरोपी को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया था.'

ऐसे बनाता था लोगों को बेवकूफ

डीसीपी ने कहा कि आरोपी योगेश तिवारी टेक सेवी है और उसने खुलासा किया कि उसने आईफोन के फोटो और वीडियो डाउनलोड किए और सोशल मीडिया पर रियायती दरों पर अपलोड किया और लोगों को धोखा दिया. पहले वह दिल्ली से चाइनीज आईफोन खरीदता था और ठगे गए लोगों को भेजता था. बाद में उसने उन मोबाइल फोन को भेजना भी बंद कर दिया. पुलिस ने कहा कि आरोपी के सोशल मीडिया पेज पर 1,04,000 से अधिक फॉलोअर्स हैं.

जीता था ऐसी लाइफ

उसने अलग-अलग राज्यों में रहने वाले कई लोगों के साथ एक ही तरीके से धोखाधड़ी करना कबूल किया. पुलिस ने बताया कि उसके पास से चार मोबाइल फोन, अपराध में प्रयुक्त नौ सिम कार्ड और पैसे से खरीदी गई एक मोटरसाइकिल बरामद की गई है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.