Indian Army ने डेवलप किया अपना खुद का मैसेजिंग ऐप

भारतीय सेना ने खुद के प्रयोग के लिए एक एंड टू एंड इनक्रिप्शन मैसेजिंग ऐप्लिकेशन (End to End Inscription Messaging App) को विकसित किया है. यह मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मैसेजिंग ऐप से भी कई ज्यादा सुरक्षित है.

Indian Army ने डेवलप किया अपना खुद का मैसेजिंग ऐप
फाइल फोटो

नई दिल्लीः भारतीय सेना ने खुद के प्रयोग के लिए एक एंड टू एंड इनक्रिप्शन मैसेजिंग ऐप्लिकेशन (End to End Inscription Messaging App) को विकसित किया है. यह मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप और अन्य सोशल मैसेजिंग ऐप से भी कई ज्यादा सुरक्षित है. इससे सेना की गोपनीय जानकारियां देश के दुश्मनों को हाथ भी नहीं लगेगी, क्योंकि इसकी सुरक्षा काफी अभेद्य रखी गई है. 

सेना ने लगाया था 89 ऐप्स पर प्रतिबंध
इस वर्ष सेना ने सुरक्षा कारणों से 89 ऐप को प्रतिबंधित कर दिया था. सैन्यकर्मियों को फेसबुक (Facebook), ट्रकॉलर (Truecaller), इंस्टाग्राम (Instagram) और पबजी (Pubji) जैसे गेम्स को मोबाइल से हटाने के लिए कहा गया था. गुरुवार को, भारतीय सेना ने एक बयान में कहा कि आत्मनिर्भर भारत के तहत, सेना ने एक सामान्य और सुरक्षित ऐप विकसित किया है, जिसका नाम 'सिक्योर ऐप्लिकेशन फॉर इंटरनेट (एसएआई) रखा गया है.'

ऐप्लिकेशन इंटरनेट पर एंड्राइड प्लेटफार्म में एंड टू एंड सुरक्षित व्वॉइस, टेक्स्ट और वीडियो कॉलिंग सेवा को सपोर्ट करता है. यह ऐप वाट्सऐप, टेलीग्राम, संवाद और जीम्स की तरह ही है और यह एंड-टू-एंड इनक्रिप्शन मैसेजिंग प्रोटोकोल का पालन करता है. ऐप्लिकेशन की कार्यक्षमता की समीक्षा करने के बाद, रक्षामंत्री राजनाथ सिह ने एप्लिेकशन डेवलप करने के लिए कर्नल साईं शंकर की उनकी कौशल और प्रतिभा के लिए तारीफ की थी.

(इनपुट-आईएएनएस)

यह भी पढ़ेंः सरकार ने हवाई यात्रियों को दी बड़ी राहत, किराये पर इतने महीनों के लिए बढ़ा दी Capping

ये भी देखें---