Breaking News
  • देश भर में बढ़ाया जा सकता है लॉकडाउन, कई राज्‍य सरकारों ने केंद्र से की सिफारिश: सूत्र
  • महबूबा मुफ्ती को सरकारी निवास से घर शिफ़्ट किया गया लेकिन वो PSA के तहत रहेंगी नजरबंद
  • तबलीगी जमात की कारगुज़ारियों के खिलाफ मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, जमात की एक्टिविटी पर रोक लगाने की मांग
  • BSF ने अपने जवानों से कहा- 21 अप्रैल तक जहां हैं, वहीं रहें

जानिए Sarahah ऐप का इस्तेमाल आपके लिए क्यों है खतरनाक

 इस एप के जरिए आप किसी को भी मैसेज भेज सकते हैं लेकिन रिसीव करने वाले को यह नहीं पता लग पाएगा कि मैसेज किसने भेजा है और न ही वह इसका जवाब दे सकेगा. 

जानिए Sarahah ऐप का इस्तेमाल आपके लिए क्यों है खतरनाक
Sarahah का अरबी भाषा का शब्द है. इसका मतलब 'ईमानदारी' होता है.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली : सऊदी अरब के जैनुल आबेदीन का बनाया Sarahah एप पूरी दुनिया में धूम मचा  रहा है. यह एप गूगल प्ले स्टोर पर टॉप-4 ट्रेंडिग है. अब तक इसे 50 लाख से 1 करोड़ लोग डाउनलोड कर चुके हैं. यह एप 30 से ज्यादा देशों में पॉपुलर हो चुका है. एपल प्ले स्टोर पर Sarahah एप टॉप चार ट्रेडिंग की लिस्ट में है. गूगल प्ले स्टोर से 5 से 10 लाख यूजर्स इसे इंस्टॉल कर चुके हैं.  इस एप के जरिए आप किसी को भी मैसेज भेज सकते हैं लेकिन रिसीव करने वाले को यह नहीं पता लग पाएगा कि मैसेज किसने भेजा है और न ही वह इसका जवाब दे सकेगा. दावा ये है कि इसके जरिए यूजर्स साथ काम करने वाले कर्मचारियों और दोस्तों को ईमानदार फीडबैक भेज सकते हैं. ऐप फरवरी 2017 में वेबसाइट के तौर पर लॉन्च हुआ था

इस एप को दुनियाभर में फेसबुक और स्नेपचैट से ज्यादा तवज्जो मिल रही है. साइबर एक्सपर्ट पवन दुग्गल का कहना है कि इस एप से साइबर बुलिंग को बढ़ावा मिलेगा. फेसबुक और ट्विटर जैसे प्लेटफॉर्म ने ट्रोलिंग और बुलिंग को पहले से ही बढ़ावा दिया है. इस एप में यूजर्स की पहचान ही गोपनीय है. कोई भी किसी को कैसे भी मैसेज भेज सकता है. ऐसे में यह खतरनाक साबित हो सकता है. उनका कहना है कि इस एप का दुरुपयोग साइबर क्राइम में ना हो इसके लिए अभी से ठोस कदम उठाने की जरूरत है.

यूं करें इसे डाउनलोड
Sarahah एप को iOS और एंड्रॉएड किसी भी वर्जन से डाउनलोड किया जा सकता है. डाउनलोड करने के बाद यूजर्स को कस्टम यूआरएल के साथ अपनी प्रोफाइल सेट करनी होती है. उदाहरण के लिए- kuldeep1989. sarahah.com. सेटअप के पूरा होने के बाद चार ऑप्शन दिए जाते हैं
-मैसेजिज
-सर्च
-एक्सप्लोर
-प्रोफाइल

टॉप राइट कॉर्नर में स्थित सेटिंग आइकॉन के जरिए यूजर्स को ईमेल नोटिफिकेशन, पुश नोटिफिश मिलेगा.  प्राइवेसी के लिए यूजर्स “appear in search” में नॉन रजिस्ट्रर्ड यूजर्स की तरफ से आने वाले मैसेज को disable/enable कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें : सऊदी के 'सराहा' ऐप ने मचाया तहलका, एक महीने में 30 करोड़ डाउनलोड

 ऐसे हो सकती है यूजर्स की जानकारी हैक
- यूजर्स की डिटेल सार्वजनिक हो सकती है.
- यूजर्स की मेल आईडी, आईपी एड्रेस ट्रेस कर  हैकर्स जानकारी हैक कर सकते हैं.
- बिटकॉइन के जरिए यूजर्स से फिरौती की मांग की जा सकती है.
- इस ऐप को किसी कंपनी ने तो बनाया नहीं है, ऐसे में कैसे भरोसा करेंगे. हो सकता है कल को आपके डाटा को बेच दिया जाए.
- अगर डेवलपर ने आने वाले समय में इसमें पहचान उजागर करने वाला फीचर्स दे दिए तो क्या होगा?