सिंगापुर में हैकरों ने पीएम की सेहत से जुड़ी जानकारी हासिल की, 15 लाख लोगों को बनाया निशाना

हैकरों ने एक बड़े साइबर हमले में सिंगापुर के लोगों के स्वास्थ्य संबंधी 15 लाख रिकार्ड चुरा लिए. प्रधानमंत्री ली सेन लूंग की सेहत संबंधी जानकारी को खासतौर पर निशाना बनाया. 

सिंगापुर में हैकरों ने पीएम की सेहत से जुड़ी जानकारी हासिल की, 15 लाख लोगों को बनाया निशाना
पिछले साल भी हैकरों ने रक्षा मंत्रालय के डेटाबेस को निशाना बनाते हुए करीब 850 सैन्य रंगरूटों और सैन्य कर्मियों की सूचना चुरा ली थी.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

सिंगापुर: हैकरों ने एक बड़े साइबर हमले में सिंगापुर के लोगों के स्वास्थ्य संबंधी 15 लाख रिकार्ड चुरा लिए. प्रधानमंत्री ली सेन लूंग की सेहत संबंधी जानकारी को खासतौर पर निशाना बनाया. अधिकारियों ने आज बताया कि देश के इतिहास में आंकड़ों में यह सबसे बड़ी सेंधमारी है. स्वास्थ्य एवं सूचना मंत्रालय ने संयुक्त वक्तव्य में कहा कि यह जानबूझकर किया गया, लक्षित और सुनियोजित हमला था जोकि ‘‘अभूतपूर्व’’ है. स्वास्थ मंत्री गान किम योंग ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हमलावरों ने खासतौर पर और बार बार प्रधानमंत्री ली सेन लूंग के व्यक्तिगत ब्यौरे एवं अस्पताल में इलाज संबंधी जानकारी को निशाना बनाया.’’

अधिकारियों ने ‘‘परिचालन संबंधी सुरक्षा’’ का हवाला देते हुए हैकरों की पहचान को लेकर ज्यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया. इससे पहले पिछले साल भी हैकरों ने रक्षा मंत्रालय के डेटाबेस को निशाना बनाते हुए करीब 850 सैन्य रंगरूटों और सैन्य कर्मियों की सूचना चुरा ली थी. 

अब आपके कंप्यूटर पर घात नहीं लगा सकेंगे हैकर
वैज्ञानिकों ने हैकिंग पर रोक लगाने के लिए एक ऐसी प्रणाली विकसित की है जो हैकिंग को अंजाम देने वाले प्रोग्राम को केवल अवरोधित करने की बजाए उसके सामने एक वैकल्पिक वास्तविकता रखता है यानि हैकरों को गुमराह करने के लिए उन्हें गलत डेटा उपलब्ध कराता है. अमेरिका की सांदिया नेशनल लैबोरेट्रीज में अनुसंधानकर्ताओं द्वारा विकसित हाई फिडेलिटी अडेप्टिव डिसेप्शन एंड इम्यूलेशन सिस्टम (हेड्स) हैकर को ऐसी जानकारी देता है जिनपर वह भरोसा करे, लेकिन उसका वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं होता.

सैंडिया नेशनल लैबोरेट्रीज के विंस यूरियाज ने कहा, “हैकर को रोक देना मात्र लगभग व्यर्थ है. विषमताएं हैकर के पक्ष में होती हैं जैसे हमें उसका प्रवेश रोकने के लिए कई संभावित प्रवेश बिंदुओं को सुरक्षित करना होता है और एक हैकर को प्रवेश के लिए केवल एक बिंदु चाहिए होता है.” 

किसी डेटा स्रोत से एक हैकिंग प्रोग्राम को संक्षिप्त रूप से निकालने की बजाए, ऐसे प्रोग्राम को आसानी से हेड्स में ले जाया जाता है जहां हूबहू तैयार की गई हार्ड ड्राइव, मेमोरी और डेटा संग्रह वास्तविक जानकारियों का आभास कराते हैं. बहरहाल, कुछ जानकारियों में प्रत्यक्ष रूप से नहीं लेकिन एहतियातन बदलाव किए जाते हैं.

इनपुट भाषा से भी