जापान में 'योगी' ने प्रतिद्वंद्वी को भारी मतों से दी पटखनी, चुनाव जीतकर रचा इतिहास

चेजिंग डायनामिक्स ऑफ इंडिया-जापान रिलेशंस के लेखक शमशाद खान ने कहा, ‘‘जापान के चुनावों में भारतीय मूल के जापानी नागरिक की यह पहली जीत है. यह जापान के समाज में भारतीयों के योगदान की पहचान भी है.’’ 

जापान में 'योगी' ने प्रतिद्वंद्वी को भारी मतों से दी पटखनी, चुनाव जीतकर रचा इतिहास
फोटो- FB/Yogendra Puranik

तोक्यो: भारतीय मूल के एक जापानी व्यक्ति ने इतिहास रचते हुये तोक्यो के इदोगावा वार्ड असेम्बली चुनाव में जीत हासिल कर ली है. जापान के चुनावों में विजय हासिल करने का कारनामा करने वाले वह पहले भारतीय हो गए हैं. जापान की नागरिकता ग्रहण कर चुके पुराणिक योगेंद्र (41) को कुल पड़े 2,26,561 वैध मतों में से पांचवें सर्वाधिक 6,447 मत मिले. उन्हें लोग प्यार से ‘योगी’ बुलाते हैं. यह चुनाव 21 अप्रैल को हुआ था और इसमें जापान में संयुक्त स्थानीय चुनावों के लिए मत डाले गए थे. जापान के समाचार पत्र आशी शिमबुन ने यह खबर दी है.

‘योगी’ ने कहा, ‘‘मैं जापानी और विदेशियों के मध्य पुल का काम करना चाहता हूं.’’
जापान की कांस्टीटयूशनल डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थन से जीत हासिल करने वाले ‘योगी’ ने कहा, ‘‘मैं जापानी और विदेशियों के मध्य पुल का काम करना चाहता हूं.’’ इदोगावा वार्ड ऐसा इलाका है जहां पर भारतीय सबसे अधिक संख्या में रहते हैं. तोक्यो के इस वार्ड में 4,300 या उससे अधिक भारतीय रहते है जबकि जापान में रहने वाले कुल भारतीयों की तादाद 34 हजार है. 

योगी 1997 में तब जापान आये थे जब वह विश्वविद्यालय के छात्र थे
इदोगावा वार्ड में चीनी और कोरियाई भी बड़ी संख्या में रहते है. योगी 1997 में तब जापान आये थे जब वह विश्वविद्यालय के छात्र थे. वह दो साल के अध्ययन के बाद वापस आ गये और फिर 2001 में बतौर इंजीनियर काम करने पहुंचे. बाद में उन्होंने बैंक और दूसरी कंपनियों में काम किया. वह इदोगावा वार्ड में 2005 से रह रहे है. 

भारतीय मूल के जापानी नागरिक की यह पहली जीत 
बाद में उन्होंने जापान की नागरिकता हासिल की और राजनीति में कदम रख दिया. चेजिंग डायनामिक्स ऑफ इंडिया-जापान रिलेशंस के लेखक शमशाद खान ने कहा, ‘‘जापान के चुनावों में भारतीय मूल के जापानी नागरिक की यह पहली जीत है. यह जापान के समाज में भारतीयों के योगदान की पहचान भी है.’’ 

इनपुट भाषा से भी