पाकिस्तान ने घातक दुर्घटना के बाद रोका फ्रांसीसी एटीआर विमानों का संचालन

पाकिस्तान की राष्ट्रीय विमानन कंपनी पीआईए ने आज अपने बेड़े में मौजूद फ्रांस निर्मित 10 एटीआर टबरेप्रॉप विमानों का संचालन रोक दिया है। विमानन कंपनी ने यह फैसला इसी तरह के एक विमान के कुछ दिन पहले दुर्घटनाग्रस्त हो जाने और इसमें सवार सभी 47 लोगों की मौत हो जाने के बाद लिया है। दुर्घटना के समय विमान इस्लामाबाद जा रहा था।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की राष्ट्रीय विमानन कंपनी पीआईए ने आज अपने बेड़े में मौजूद फ्रांस निर्मित 10 एटीआर टबरेप्रॉप विमानों का संचालन रोक दिया है। विमानन कंपनी ने यह फैसला इसी तरह के एक विमान के कुछ दिन पहले दुर्घटनाग्रस्त हो जाने और इसमें सवार सभी 47 लोगों की मौत हो जाने के बाद लिया है। दुर्घटना के समय विमान इस्लामाबाद जा रहा था।

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स (पीआईए का विमान पीके-661 बीते बुधवार को चितराल शहर से इस्लामाबाद जाते समय देश के उत्तरी क्षेत्र में एक पहाड़ी से टकरा गया था। विमानसेवा ने कहा है कि विमान के दो टबरेप्रॉप ईंजनों में से एक ईंजन फेल हो गया था।

पीआईए के एक अन्य एटीआर विमान को भी कल उड़ान से ठीक पहले ‘तकनीकी दिक्कतों’ से जूझना पड़ा था। इसे मुल्तान से उड़ान भरकर कराची जाना था लेकिन दिक्कतों के चलते इसे वापस पार्किंग क्षेत्र में बुला लिया गया था। हालांकि विमानन कंपनी ने मीडिया में आई इन खबरों को खारिज किया है कि एक ईंजन में आग लग गई थी।विमान सेवा ने कहा कि इन दो घटनाओं के बाद, बेड़े के विमानों का परीक्षण किया जाएगा।

पीआईए के प्रवक्ता दन्याल गिलानी ने कहा, ‘पीआईए के पूरे एटीआर बेड़े का परीक्षण करने के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के फैसले को देखते हुए यह तय किया गया है कि सभी 10 एटीआर विमानों को तब तक उड़ान से रोककर रखा जाएगा, जब तक वे पूर्ण परीक्षण में पास नहीं हो जाते।’

एटीआर 42-500 दो टबरेप्रॉप इंजन वाला क्षेत्रीय विमान है जो आम तौर पर 48 यात्री ले जा सकता है। इंजनों का निर्माण अमेरिकी निर्माता प्रैट एंड व्हिटनी ने किया है। कंपनी ने अब तक टिप्पणी से इनकार किया है जबकि पाकिस्तानी अधिकारी दुर्घटना की वजह की जांच कर रहे हैं।

अब तक पीआईए ने पीके-661 विमान की दुर्घटना की वजह पर कोई रिपोर्ट जारी नहीं की है। इससे पहले उसने कहा था कि ब्लैक बॉक्स से मिली जानकारी का विश्लेषण करने पर ही दुर्घटना की असल वजह का पता चल सकता है।

हवेलियां के नजदीक साढा बटोलनी गांव में दुर्घटनाग्रस्त हुए इस विमान में सवार सभी 47 लोग मारे गए थे। इनमें पॉप गायक से इस्लामी उपदेशक बने जुनैद जमशेद, उनकी पत्नी और चितराल के उपायुक्त ओसामा वराइक भी शामिल थे।

विमान की सूची के मुताबिक, एटीआर-42 विमान में 31 पुरूष, नौ महिलाएं, दो बच्चे और चालक दल के पांच सदस्य सवार थे। उड़ान भरने के बाद विमान का संपर्क इस्लामाबाद के बेनजीर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के वायु यातायात नियंत्रण से टूट गया था।