ब्रिटेन के मैनचेस्टर आतंकी हमले की दुनियाभर में निंदा

ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरीना में हुए आतंकी हमले को लेकर दुनियाभर के देशों ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कड़ी आलोचना की है. अमेरिका ने कहा है कि वह ब्रिटेन में हुई घटना पर करीबी नजर रख रहा है और घटना के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने के लिए अन्य देशों के साथ मिल कर काम कर रहा है.

ब्रिटेन के मैनचेस्टर आतंकी हमले की दुनियाभर में निंदा
ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरीना में हुए आतंकी हमले में 22 लोगों की मौत हो गई.

वॉशिंगटन/बेथलेहम/पेरिस: ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरीना में हुए आतंकी हमले को लेकर दुनियाभर के देशों ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कड़ी आलोचना की है. अमेरिका ने कहा है कि वह ब्रिटेन में हुई घटना पर करीबी नजर रख रहा है और घटना के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने के लिए अन्य देशों के साथ मिल कर काम कर रहा है.

वॉशिंगटन में एक आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘‘गृह सुरक्षा विभाग (डीएचएस) ब्रिटेन के मैनचेस्टर एरीना की स्थिति पर करीब से नजर रख रहा है .’’ डीएचएस ने कहा, ‘‘हम विस्फोट के कारणों तथा घायलों और हताहतों के बारे में अतिरिक्त सूचना के लिए अपने विदेशी समकक्षों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं.’’ पदभार संभालने के बाद पहली विदेश यात्रा कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी हमले के लिए जिम्मेदार ‘दुष्ट कायरों’ की मंगलवार (23 मई) को निंदा की.

इस्राइल अधिकृत पश्चिमी किनारे में फलस्तीनी राष्ट्रपति मेहमूद अब्बास से बेथलेहम में मुलाकात के बाद ट्रंप ने कहा, ‘‘इतने सारे युवा, खूबसूरत, निर्दोष लोग जो अपना जीवन जी रहे थे, जीवन का आनंद उठा रहे थे, उनकी दुष्ट कायरों ने हत्या कर दी.’’ ट्रंप ने कहा, ‘‘मैं उन्हें दैत्य नहीं कहूंगा क्योंकि उन्हें यह शब्द पसंद आएगा. उन्हें लगेगा कि यह एक बढ़िया नाम है.’’

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमेनुअल मैक्रोन ने भी इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुये कहा कि वह ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेजा मे से बात करेंगे. उनके कार्यालय ने एक बयान में कहा कि मैक्रोन को सोमवार (22 मई) शाम हुये खौफनाक हमले का पता चला. वहीं फ्रेंच प्रधानमंत्री एडुअर्ड फिलिप ने हमले की निंदा करते हुये इसे ‘‘बेहद कायराना आतंकवाद’’ बताया जो युवाओं को निशाना बनाता है. 

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने भी मैनचेस्टर बम धमाकों पर ‘‘दुख और खौफ’’ जताते हुये संकल्प व्यक्त किया कि जर्मनी आतंकवाद के खिलाफ जंग में ब्रिटेन के साथ है. बर्लिन में एक बयान जारी कर उन्होंने कहा, ‘‘इस संदिग्ध आतंकी हमले से ऐसे अमानवीय कृत्यों के खिलाफ अपने ब्रिटिश दोस्तों के साथ काम करने का हमारा दृढ़ संकल्प और मजबूत होगा. मैं ब्रिटेन के लोगों को आश्वासन देती हूं: जर्मनी आपके साथ खड़ा है.’’

इस्राइल ने भी ब्रिटेन में हुये आतंकी हमले की कड़ी भर्त्सना करते हुये मारे गये लोगों के परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की. इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने एक बयान में कहा, ‘इस्राइली सरकार बीती रात मैनचेस्टर में हुये भयावह आतंकी हमले की कड़ी निंदा करती है. आतंकवाद एक वैश्विक खतरा है और देशों को इसे कहीं भी शिकस्त देने के लिये जरूर साथ में काम करना होगा.’ 

वहीं रूस ने भी इस आतंकी हमले की कड़ी निंदा करते हुये कहा कि वह ब्रिटेन के साथ आतंकवाद विरोधी सहयोग को बढ़ाने के लिये तैयार है. क्रेमलिन द्वारा प्रकाशित एक बयान में पुतिन ने कहा, ‘हम इस कुटिल अमानवीय अपराध की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं. हमें उम्मीद है कि इसके पीछे जो लोग हैं वह उस सजा से नहीं बच पायेंगे जिसके वो हकदार हैं.’

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने मैनचेस्टर हमले की निंदा की

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने ब्रिटेन के मैनचेस्टर में एक कंसर्ट के दौरान हुए ‘भयावह’ आतंकी हमले की निंदा करते हुए उम्मीद जताई कि इस हिंसक गतिविधि के लिए जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा. गुटेरेस ने हमले की निंदा करने के साथ पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की.

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेले ने कहा कि इस ‘संवेदनहीन हमले’ को सुनकर ‘बहुत दुख’ हुआ. उधर, ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने मैनचेस्टर में हमले को ‘बर्बरता’ का कृत्य करार दिया और कहा कि इस घटना से पूरा देश सदमे में है.