अमेरिका ने चीन पर फिर चलाया चाबुक, अब इस मामले को लेकर लगा दिया BAN

वाशिंगटनः अमेरिका ने शिनजियांग में मानवाधिकार हनन के मामले में चीन पर प्रतिबंध लगा दिया है. ट्रंप प्रशासन ने जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकार हनन के लिए चीन के पश्चिम शिनजियांग क्षेत्र में वहां के अर्द्धसैन्य संगठन के चीफ और उसके कमांडर पर BAN लगा दिया है.

अमेरिका ने चीन पर फिर चलाया चाबुक, अब इस मामले को लेकर लगा दिया BAN
ट्रंप (फाइल फोटो)

वाशिंगटनः अमेरिका (America) ने शिनजियांग में मानवाधिकार हनन के मामले में चीन पर प्रतिबंध लगा दिया है. ट्रंप (Donald Trump) प्रशासन ने जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकार हनन के लिए चीन के पश्चिम शिनजियांग क्षेत्र में वहां के अर्द्धसैन्य संगठन के चीफ और उसके कमांडर पर BAN लगा दिया है. इस पाबंदी की घोषणा ट्रंप सरकार के विदेश और वित्त विभाग ने की.

बता दें प्रतिबंध के बाद अमेरिका में बैन संगठन और व्यक्तियों की किसी भी प्राॅपर्टी को कुर्क जा सकता है़. इतना ही नहीं अमेरिका के नागरिकों के साथ उनके व्यापार करने की मनाही होगी. अमेरिका ने शिनजियांग production corp, उसके कमांडर पर धार्मिक अत्याचार को लेकर प्रतिबंध लगाया है़.

LIVE TV

ये भी पढ़ें: चीन को लगा जोर का झटका, भारत के बाद अमेरिका में भी TikTok पर बैन

व्हाइट हाउस के एक आधिकारिक बयान में अमेरिका ने कोरोना वायरस महामारी के कारण HONGKONG में स्थानीय सरकार के चुनाव स्थगित करने की निंदा की. उधर हांगकांग ने इस पर पलटवार करते हुए निशाना साधा और कहा, अमेरिका की तरफ से चुनाव में देरी को लेकर आलोचना ऐसे वक्त में की गई जब एक दिन पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुद नवंबर में होने वाले अमेरिका चुनावों को टालने का सुझाव दिया है. 

वित्त मंत्री स्टीवन म्नुचिन ने एक बयान में कहा, अमेरिका शिनजियांग तथा दुनियाभर में मानवाधिकारों के उल्लंघन कर्ताओं को जिम्मेदार ठहराने के लिए अपनी वित्तीय शक्तियों का पूरी तरह इस्तेमाल करने के लिए प्रतिबद्ध है.  विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि, दो अधिकारियों कमांडर पेंग जियारुई और पूर्व कमिसर सुन जिनलोंग पर भी अमेरिकी वीजा पाबंदियां लगेंगी. ट्रंप प्रशासन ने पहले भी शिनजियांग में अन्य अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाए थे. 

हांगकांग की नेता कैरी लाम ने शुक्रवार को घोषणा की कि सरकार कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से फैलने के मद्देनजर बहुप्रतीक्षित विधान परिषद चुनावों को एक साल के लिए स्थगित करेगी. हांगकांग सरकार चुनाव स्थगित करने के लिए आपातकालीन अध्यादेश लागू कर रही है.

ये भी देखें-