close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अंतरिक्ष स्टेशन में यान से हो रहा था रिसाव, वैज्ञानिकों ने ऐसे किया मरम्मत

नासा और रूसी अंतरिक्ष अधिकारियों के मुताबिक ये सभी यात्री सुरक्षित हैं. 

अंतरिक्ष स्टेशन में यान से हो रहा था रिसाव, वैज्ञानिकों ने ऐसे किया मरम्मत
प्रतीकात्मक फोटो

केप कैनावरल: पृथ्वी के निकटवर्ती कक्षा में स्थापित अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र से जुड़े रूसी अंतरिक्षयान में हुए एक छोटे से छेद को भरने के लिए अंतरिक्ष यात्रियों को गुरुवार को काफी मशक्कत करनी पड़ी. इस छेद की वजह से आईएसएस से हवा का रिसाव अंतरिक्ष में हो रहा था. अंतरिक्ष एजेंसी नासा और रूस के अंतरिक्ष अधिकारियों ने इस बात पर खास जोर दिया कि अब वहां मौजूद छह अंतरक्षियात्रियों को कोई खतरा नहीं है.

इस रिसाव के बारे में बुधवार रात को पता चला जो संभवत: किसी बेहद छोटे कण के आकार के उल्का के टकराने की वजह से शुरू हुआ था. केबिन में दबाव में कुछ कमी आने के बाद इसके बारे में पता चल सका. सोयुज कैप्सूल (अंतरिक्षयान) में हुआ या यह छेद करीब दो मिलीमीटर का था.

इसे भी पढ़ें: 2022 तक भारत के गगनयान से अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे 1 महिला और 2 पुरुष

शुक्रवार को सुबह चालक दल के सदस्यों ने छेद पर पहले टेप लगाकर रिसाव को कम किया. बाद में दो रूसी अंतरिक्षयात्रियों ने एक कपड़े पर सीलेंट डालकर छेद पर रखा जबकि उनके सहयोगियों ने जमीन पर मौजूद इंजीनियरों के लिए इसकी तस्वीरें उतारी. इस बीच यान नियंत्रकों ने कैबिन के दबाव पर नजर रखी और बेहतर स्थायी समाधान के लिए काम करते रहे.

इसे भी पढ़ें: कैसे बनी पृथ्वी? NASA के नए अंतरिक्ष यान से खुलेगा राज!

अधिकारियों ने बताया कि मॉस्को के बाहर मिशन कंट्रोल ने अंतरिक्षयात्रियों को सीलेंट को रात भर सूखने के लिए छोड़ने को कहा और शुक्रवार को इस संबंध में और जांच की जाएगी. कामचलाऊ मरम्मत से फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है. अंतरिक्ष स्टेशन में से एक इस सोयुज जून में तीन अंतरिक्ष यात्रियों के साथ कक्षा में स्थापित किया गया था. इसे वहां लाइफबोट के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा. इस अंतरिक्ष स्टेशन पर अभी कुल छह अंतरिक्ष यात्री हैं. नासा और रूसी अंतरिक्ष अधिकारियों के मुताबिक ये सभी यात्री सुरक्षित हैं.