इमरान के गले की फांस बने हुए हैं मौलाना, पाकिस्तान के सड़कों पर उतर आया हुजूम

पाकिस्तान के विपक्षी दल जमीयते उलेमाए इस्लाम-एफ (जेयूआई-एफ) ने प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे की मांग के साथ गुरुवार को देश के कई महत्वपूर्ण राजमार्गो व अन्य सड़कों को बाधित कर दिया.

इमरान के गले की फांस बने हुए हैं मौलाना, पाकिस्तान के सड़कों पर उतर आया हुजूम
.(फाइल फोटो)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के विपक्षी दल जमीयते उलेमाए इस्लाम-एफ (जेयूआई-एफ) ने प्रधानमंत्री इमरान खान के इस्तीफे की मांग के साथ गुरुवार को देश के कई महत्वपूर्ण राजमार्गो व अन्य सड़कों को बाधित कर दिया. मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में जेयूआई-एफ ने बुधवार को इस्लामाबाद में 13 दिनों से चल रहे धरने को समाप्त कर आंदोलन के 'प्लान बी' पर अमल शुरू करने का ऐलान किया था. इसी के तहत पार्टी समर्थक गुरुवार को सड़कों पर उतरे. जेयूआई-एफ सदस्यों के आंदेलन का सर्वाधिक असर खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में देखने को मिल रहा है जहां के कई मार्गों को बाधित किया गया.

प्रांत के मनसेहरा जिले में स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण मार्ग शाहराह-ए-रेशम को बाधित कर दिया. मार्ग पर वाहनों की लाइन देखी गई. व्यापार की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण यह मार्ग पाकिस्तान को चीन से और खैबर पख्तूनख्वा को गिलगिट के इलाके से जोड़ता है.

जेयूआई-एफ सदस्यों ने सिंध और बलोचिस्तान को जोड़ने वाले मार्ग को सिंध के जैकोबाबाद में बाधित किया. कार्यकर्ता दोनों राज्यों को जोड़ने वाले जीरो प्वाइंट पर धरने पर बैठ गए जिसके कारण वाहनों की आवाजाही रुक गई. पार्टी के आंदोलन का असर सिंध की राजधानी कराची में भी दिखा.

इस बीच, पाकिस्तान के प्रमुख विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने साफ कहा है कि जेयूआई-एफ के इस दूसरे चरण के आंदोलन से उसका कोई सरोकार नहीं है. पार्टी ने साफ किया है कि मार्गो को बाधित करने के लिए जगह-जगह धरना देने के आंदोलन को वह सही नहीं मानती है.