फ्रांस में हुए आतंकी संगठन ISIS के हमलों के बाद बराक ओबामा ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के साथ की बैठक

तीन एशियाई देशों की यात्रा पर निकलने से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फ्रांस में हुए घातक हमलों की पृष्ठभूमि में अपने देश में सुरक्षा स्थिति एवं खुफिया जानकारी की समीक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा दल के साथ बैठक की है। इन हमलों की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली थी। ओबामा तुर्की, मलेशिया और फिलिपीन की यात्रा पर जा रहे हैं। तुर्की में उन्हें जी-20 नेताओं के शिखर सम्मेलन में शिरकत करनी है।

फ्रांस में हुए आतंकी संगठन ISIS के हमलों के बाद बराक ओबामा ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के साथ की बैठक

वॉशिंगटन : तीन एशियाई देशों की यात्रा पर निकलने से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फ्रांस में हुए घातक हमलों की पृष्ठभूमि में अपने देश में सुरक्षा स्थिति एवं खुफिया जानकारी की समीक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा दल के साथ बैठक की है। इन हमलों की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली थी। ओबामा तुर्की, मलेशिया और फिलिपीन की यात्रा पर जा रहे हैं। तुर्की में उन्हें जी-20 नेताओं के शिखर सम्मेलन में शिरकत करनी है।

बैठक के बाद व्हाइट हाउस ने कहा कि दल ने खुफिया जानकारी की पूरी तस्वीर की समीक्षा की। उन्होंने इस बात पर गौर किया कि अमेरिका के पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है, जिसके आधार पर इस्लामिक स्टेट की जिम्मेदारी वाले शुरुआती फ्रांसीसी आकलन को गलत ठहराया जा सके।

व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति के दल ने उन्हें इन हमलों से जुड़ी हालिया खुफिया जानकारी के बारे में बताया। उन्होंने यह भी बताया कि फिलहाल अमेरिका पर कोई विशेष खतरा नहीं है। इस दौरान गृहसुरक्षा की समीक्षा की गई ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे अमेरिकी लोगों की सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठा रहे हैं।

व्हाइट हाउस ने कहा, राष्ट्रपति को हमारे फ्रांसीसी समकक्षों के साथ खुफिया जानकारी साझा करने और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने पर सक्रिय सहयोग किए जाने के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने इस बात को दोहराया कि उनका दल अपने फ्रांसीसी समकक्षों के साथ करीबी संपर्क बनाकर रखेगा ताकि जांच के लिए फ्रांसीसी अधिकारियों को किसी भी तरह की जरूरी मदद उपलब्ध करवाने के लिए तैयार रहा जा सके।

बयान में कहा गया, दल ने खुफिया जानकारी से जुड़ी पूरी तस्वीर की समीक्षा की और पाया कि उनके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है, जिसके आधार पर आईएसआईएस की जिम्मेदारी वाले शुरुआती फ्रांसीसी आकलन को गलत ठहराया जा सके। इसमें कहा गया, राष्ट्रपति को पेरिस और यूरोप भर में हमारे दूतावास की सुरक्षा स्थिति की भी जानकारी दी गई। उन्होंने अपने दल को निर्देश दिए कि वह दूतावास के कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी उपयुक्त उपाय करें। राष्ट्रपति ने अपने दल को निर्देश दिए कि वह जांच और किसी भी प्रासंगिक खुफिया जानकारी के बारे में उन्हें नियमित रूप से सूचित करता रहे।