close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साल 2018 में कई देशों पर छाया था भुखमरी का प्रकोप, खाने के लिए तरसते रहे 11 करोड़ 13 लाख लोग: रिपोर्ट

‘ ग्लोबल रिपोर्ट ऑन फूड क्राइसिस 2019’ रिपोर्ट में बताया गया है कि एक करोड़ से ज्यादा लोग पिछले तीन साल से लगातार भुखमरी का सामना कर रहे हैं. 

साल 2018 में कई देशों पर छाया था भुखमरी का प्रकोप, खाने के लिए तरसते रहे 11 करोड़ 13 लाख लोग: रिपोर्ट
ग्लोबल रिपोर्ट्स के अनुसार 53 देशों के लोग अभी भी घोर भुखमरी का सामना कर रहे हैं. (फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र : युद्ध, जलवायु से जुड़ी आपदाओं और आर्थिक अशांति जैसे कारणों से पैदा हुए खाद्य संकट की वजह से दुनिया के 53 देशों के करीब ग्यारह करोड़ 13 लाख लोगों को पिछले वर्ष घोर भुखमरी जैसी स्थिति का सामना करना पड़ा था. संयुक्त राष्ट्र और यूरोपीय संघ की एक नई रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ), विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) और यूरोपीय संघ की ‘ ग्लोबल रिपोर्ट ऑन फूड क्राइसिस 2019’ रिपोर्ट में बताया गया है कि एक करोड़ से ज्यादा लोग पिछले तीन साल से लगातार भुखमरी का सामना कर रहे हैं. 

बेन स्टोक्स कभी नहीं भूल पाएंगे 3 अप्रैल का दिन, जब उनकी वजह से विश्व कप हार गया था इंग्लैंड

रिपोर्ट के अनुसार करीब 11 करोड़ 13 लाख से ज्यादा लोग 53 देशों में घोर भुखमरी का सामना कर रहे हैं और उन्हें तत्काल खाद्य पदार्थ, पोषक आहार और आजीविका की जरूरत है. खाद्य पदार्थ का सबसे भयावह संकट का सामना यमन, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, अफगानिस्तान, इथियोपिया, सीरिया, सूडान, दक्षिणी सूडान और उत्तरी नाइजीरिया जैसे देश कर रहे हैं. इन देशों में कुल सात करोड़ 20 लाख लोग खाद्य संकट का सामना कर रहे हैं.

(इनपुट भाषा)