close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नेतन्याहू ने यूरोपीय संघ पर साधा निशाना, माइक्रोफोन से बाहर आई बंद कमरे की बातचीत

भारत और चीन के साथ मजबूत संबंधों का हवाला देते हुए इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने यूरोपीय संघ पर तीखे हमले किए जिसमें वह कह रहे हैं कि यूरोपीय समूह का उनके देश के प्रति व्यवहार ‘सनक भरा’ और ‘खुद को नुकसान पहुंचाने वाला’ है.

नेतन्याहू ने यूरोपीय संघ पर साधा निशाना, माइक्रोफोन से बाहर आई बंद कमरे की बातचीत
इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने यूरोपीय संघ पर तीखे हमले किए. (फाइल फोटो)

यरूशलम: भारत और चीन के साथ मजबूत संबंधों का हवाला देते हुए इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने यूरोपीय संघ पर तीखे हमले किए जिसमें वह कह रहे हैं कि यूरोपीय समूह का उनके देश के प्रति व्यवहार ‘सनक भरा’ और ‘खुद को नुकसान पहुंचाने वाला’ है. नेतन्याहू ने बुधवार (19 जुलाई) बंद कमरे में हुई चार यूरोपीय नेताओं के साथ बैठक में यह बात कही और न चाहते हुए यह बातचीत माइक्रोफोन के जरिए बाहर आ गई.

इस्राइली प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमअजीब हालात देख रहे हैं. यूरोपीय संघ दुनिया के उन देशों का संगठन है जो इस्राइल के साथ संबंधों को लेकर शर्तें लगाता है.’ माइक्रोफोन खुला रह जाने के वजह से बातचीत का पूरा ब्यौरा कमरे से बाहर आ गया. भारत और चीन के साथ इस्राइल की बढ़ते प्रौद्योगिकी गठजोड़ का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस्राइल को ‘नवोन्मेष की ताकत’ करार दिया.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हालिया इस्राइल दौरे का भी उल्लेख किया और कहा कि मोदी ने कहा कि उनको भारतीय हितों का खयाल रखने की जरूरत है. बीबीसी' की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि यह गुट की सुरक्षा और आर्थिक हितों के लिए हानिकारक है. नेतन्याहू ने चीन, रूस और भारत का हवाला देते हुए कहा कि यह देश नवीनता की व्यापकता वाले इजरायल के साथ व्यापार करते हैं और राजनीतिक मुद्दों पर ध्यान नहीं देते. रिपोर्ट के अनुसार, नेतन्याहू ने बुडापेस्ट की तीन दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन यह टिप्पणी की.