close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कश्मीर के मामले पर पाकिस्तान में खुद का भौकाल बना रहे थे इमरान खान, बिलावल भुट्टो ने खोल दी पोल

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने संयुक्त राष्ट्र से लौटे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की जमकर आलोचना करते हुए कहा कि, पाकिस्तान में जबरन माहौल बनाया जा रहा है.

कश्मीर के मामले पर पाकिस्तान में खुद का भौकाल बना रहे थे इमरान खान, बिलावल भुट्टो ने खोल दी पोल
बिलावल ने कहा कि इमरान को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पूरे भाषण को कश्मीर मुद्दे पर केंद्रित करना चाहिए था.

दादू (पाकिस्तान): पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने संयुक्त राष्ट्र से लौटे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की शान में मीडिया के एक हिस्से द्वारा कसीदा पढ़ने पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि यह एक 'सेलेक्टेड मीडिया' द्वारा 'सेलेक्टेड प्रधानमंत्री' के लिए जबरन माहौल बनाया जाना (हाईप) है, अन्यथा लोग इमरान के संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण से निराश हैं. इमरान के बारे में पाकिस्तान में विपक्ष और एक हिस्से की यह राय है कि वह निर्वाचित (एलेक्टेड) नहीं बल्कि सेलेक्टेड (सत्ता प्रतिष्ठान में हावी सेना द्वारा परोक्ष रूप से चुने गए) प्रधानमंत्री हैं.

बिलावल ने इसी संदर्भ को मीडिया के एक हिस्से तक फैलाया और उसे सेलेक्टेड मीडिया कहकर मुखातिब किया. बिलावल ने सिंध में सहवान शरीफ नाम की जगह पर संवाददाताओं से यह बात कही. उन्होंने कहा, "उत्तर कोरिया में लोगों को शासकों के लिए सड़कों पर लाया जाता था और उनसे शासकों के लिए ताली बजवाई जाती थी.

फिर, सेलेक्टेड टीवी चैनल एंकर उनके भाषणों की तारीफ करते थे. ठीक यही बात यहां (पाकिस्तान में) हो रही है. यहां सेलेक्टेड मीडिया और एंकर प्रधानमंत्री खान की तारीफें कर रहे हैं." उन्होंने कहा कि लोग प्रधानमंत्री के भाषण के प्रभावी होने पर सवाल उठा रहे हैं. प्रधानमंत्री ने भारतीय कश्मीर में राजनैतिक बंदियों का मुद्दा उठाया जबकि खुद उनकी सरकार पाकिस्तान में राजनैतिक बंदियों को जेल में डाले हुए है.

इससे कश्मीर का मुद्दा दुनिया के सामने कमजोर हुआ. बिलावल ने कहा कि इमरान को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पूरे भाषण को कश्मीर मुद्दे पर केंद्रित करना चाहिए था. लेकिन, उन्होंने ऐसा नहीं कर इसमें और मुद्दों को जोड़ दिया जिस वजह से कश्मीर का मुद्दा ठीक से नहीं उठ सका.