अमेरिका के बाद ब्राजील में बरपा कोरोना का कहर, मौतों का आंकड़ा एक लाख के पार

कोरोना महामारी (Covid-19) के चलते ब्राजील (Brazil) में मौतों का आंकड़ा एक लाख को पार कर गया.

अमेरिका के बाद ब्राजील में बरपा कोरोना का कहर, मौतों का आंकड़ा एक लाख के पार

नई दिल्ली: कोरोना महामारी (Covid-19) के चलते ब्राजील (Brazil) में मौतों का आंकड़ा एक लाख को पार कर गया. अमेरिका (America) के बाद ब्राजील में ही कोरोना ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है और मौतों के मामले में अमेरिका के बाद ब्राजील दूसरे नंबर पर है. ब्राजील में अब तक 1 लाख 477 लोगों की जान कोरोना महामारी के चलते जा चुकी है. वहीं, पूरी दुनिया में मरने वालों का आंकड़ा 7 लाख 22 हजार तक पहुंच गया है. 

21 करोड़ की आबादी वाले देश में मई के बाद से इस महामारी से हर दिन 1,000 से अधिक लोग जान गंवा रहे हैं और शुक्रवार रात तक कुल 99,572 लोगों ने दम तोड़ दिया. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कोरोना वायरस के कुल 2,962,442 मामले आए हैं. संक्रमण और मौत के मामलों में अमेरिका के बाद ब्राजील दूसरे नंबर पर है. विशेषज्ञों का मानना है कि अन्य कई देशों की तरह यहां भी पर्याप्त जांच के अभाव में मामलों की वास्तविक संख्या एवं मौत के सही आंकड़े सामने नहीं आए हैं.

खुद कोरोना वायरस की चपेट में आए राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो इस बीमारी के असर के बारे में लगातार संशय में रहे हैं और अर्थव्यवस्था पर लगाई पाबंदियों को हटाने के पैरोकार रहे हैं. वह अक्सर भीड़ में नजर आए और कई बार तो बिना मास्क लगाए नजर आए. बोलसोनारो ने बीती गुरुवार रात को कहा था कि मुझे सभी मौतों पर दुख है, यह 1,00,000 के आंकड़े तक पहुंच रही है लेकिन हम इसका समाधान निकाल लेंगे.

इस महामारी के बीच ब्राजील में सेना के जनरल एडुआर्डो पाजुएलो अंतरिम स्वास्थ्य मंत्री हैं. उनसे पहले दो स्वास्थ्य मंत्रियों ने मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन तथा सामाजिक दूरी के उपायों को लेकर बोलसोनारो के साथ मतभेदों के चलते इस्तीफा दे दिया था. कोविड-19 को छोटा-सा फ्लू बताने वाले बोलसोनारो ने कहा कि वह इस दवा के इस्तेमाल से संक्रमण से उबर गए. ब्राजील के 27 में से अधिकतर राज्यों में दुकानें और रेस्तरां फिर से खुलने लगे. रियो में शॉपिंग मॉल और रेस्तरां पहले ही खुल गए हैं और लोग समुद्र तटों की ओर लौटे हैं.

भारत की स्थिति
भारत की बात करें तो भारत में संक्रमण के मामले 20 लाख से कहीं ज्यादा हो गए हैं. भारत (India) में करीब तीन सप्ताह में मामले दोगुने हो रहे हैं और अबतक 42,518 लोगों की मौत हो चुकी है. भारत दुनिया में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित तीसरा सबसे बड़ा देश है. हालांकि इस बीच रविवार को दिल्ली में आशा वर्कर्स ने प्रदर्शन किया. आशा वर्कर का कहना है उनकी सैलरी बढ़ाई जाए और सभी आशा वर्कर्स को कोरोना से बचाव के लिए पीपीपी किट, मास्क उपलब्ध कराई जाएं. 

अमेरिकी जनता के लिए ट्रंप ने खोला खजाना
अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जनता के लिए खजाना खोल दिया है. उन्होंने एक ऐसे एग्जीक्यूटिव ऑर्डर पर दस्तखत किए हैं, जिनका रिपब्लिकन के लिए ही डेमोक्रेटिक नेता भी विरोध कर रहे हैं. डोनाल्ड ट्रंप के नए आदेश से उन लोगों को फायदा पहुंचेगा, जो सरकारी मदद पर निर्भर है़ं, इसके लिए लोगों तक जल्द मदद पहुंचाई जा रही है.. इस आदेश के मुताबिक 400 डॉलर सप्ताह के हिसाब से बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा.

दक्षिण अफ्रीका में फुटबॉल शुरू
दक्षिण अफ्रीका में कोरोना महामारी की वजह से अबतक 10 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इसके बावजूद दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्रालय ने फुटबॉल खेलने की अनुमति दे दी है. दक्षिण अफ्रीका में 145 दिनों तक खेलों पर रोक लगे थे, लेकिन जैसे ही मामलों में कमीं आई, सरकार ने फुटबॉल मैचों के आयोजन को हरी झंडी दे दी.

फ्रांस में मास्क पहनना हुआ अनिवार्य
फ्रांस की राजधानी पेरिस में अब मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है. सोमवार से पेरिस के भीड़भाड़ वाले इलाकों, पर्यटन केंद्रों और आसपास के व्यस्त इलाकों में बिना मास्क के कोई बाहर नहीं निकल सकेगा. अब 11 साल के उम्र से ज्यादा के सभी लोगों को मास्क पहनना ही होगा, इसके लिए पेरिस की पुलिस ने बाकायदा आदेश जारी किया है. पेरिस में ऐसे करीब 101 जगहों को चिन्हित किया गया है, जहां बिना मास्क के किसी को भी एंट्री नहीं मिलेगी.

पश्चिमी यूरोप में गर्मी का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. जिसकी वजह से समुद्री बीचों पर लोगों की भीड़ उमड़ रही है. इसके बावजूद कि उनपर कोरोना महामारी का खतरा मंडरा रहा है. इंग्लैंड में शनिवार का दिन बीते 17 सालों में अगस्त का सबसे गर्म दिन रहा. शनिवार को तापमान 36.4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. जिसके बाद ब्रिटेन ते दक्षिणी हिस्से में समुद्री बीचों पर लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. यही हाल जर्मनी जैसे देश में रहा, जहां पुलिस ने लोगों को चेताया है कि अगर लोग सुरक्षा मानकों का पालन नहीं करेंगे तो कुछ बीचों को बंद कर दिया जाएगा.

बेल्जियम में भारी प्रदर्शन, पुलिस ने कईयों को किया गिरफ्तार
बेल्जियम (Belgium) पुलिस ने शनिवार को एक बीच पर भिड़े दो गुटों के कई लोगों को गिरफ्तार कर लिया. यहां ब्लैंकेनबर्ग रिजोर्ट में लोगों ने अधिकारियों के साथ झड़प की थी, क्योंकि अधिकारियों लोगों से कोरोना महामारी से बचाव के लिए फिजिकल डिस्टेंसिंग रखने की अपील की थी.

गजा में स्कूल खुले, कक्षाओं में लौटे बच्चे
कोरोना महामारी के बीच ही फिलिस्तीन के गजा में स्कूलों को खोल दिया गया है. हालांकि कम संख्या में कक्षाएं होंगी और सुरक्षा मानकों का ध्यान रखा जाएगा. गजा में पांच माह से स्कूल बंद हैं. इस समय संयुक्त राष्ट्र की तरफ से चलाए जा रहे 277 स्कूलों में 2.85 लाख बच्चे हैं.

ये भी देखें-