दुनिया में जहां विश्‍व प्रसिद्ध मंदिर, उस शहर में मीट की बिक्री पर लगा बैन

सिएम रीप प्रांत में अधिकारियों ने सोमवार को कुत्ते के मांस खरीदने, बिक्री और खाने के लिए कुत्तों के मारे जाने पर प्रतिबंध लगा दिया. हालांकि देश के अन्य हिस्सों में अब भी इसका कारोबार वैध है.

दुनिया में जहां विश्‍व प्रसिद्ध मंदिर, उस शहर में मीट की बिक्री पर लगा बैन
कुत्ते के मांस पर लगा बैन.

नोम पेन्ह: कंबोडिया में अंकोरवाट मंदिर के लिए प्रसिद्ध सिएम रीप प्रांत में कुत्ते के मांस के कारोबार को प्रतिबंधित कर दिया गया है. पशु अधिकार समूहों का कहना था कि इस क्षेत्र में कुत्ते के मांस के कारोबार में खासी वृद्धि हुई है.

सिएम रीप प्रांत में अधिकारियों ने सोमवार को कुत्ते के मांस खरीदने, बिक्री और खाने के लिए कुत्तों के मारे जाने पर प्रतिबंध लगा दिया. हालांकि देश के अन्य हिस्सों में अब भी इसका कारोबार वैध है.

दो पशु कल्याण समूहों ने एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया था कि हर साल कंबोडिया में 20 लाख से तीस लाख कुत्ते मांस के लिए मारे जाते हैं और सिएम रीप जानवरों की आपूर्ति का मुख्य स्रोत है और कभी-कभी तो यहां पालतू जानवर भी चुरा लिए जाते हैं.

ये भी पढ़ें: क्या उत्तर कोरिया ने फिर शुरू कर दिया है परमाणु कार्यक्रम? सैटेलाइट तस्वीरों से पैदा हुई आशंका

प्रतिबंध लगाने का संबंध पर्यटन स्थल के रूप में सिएम रीप की लोकप्रियता और पवित्र स्थल होने से जुड़ा है. अंकोरवाट मंदिर में सालाना 20 लाख से ज्यादा लोग आते हैं. हालांकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से यहां पर्यटक अभी नहीं आ रहे हैं.

आदेश में कहा गया है कि कुत्ते वफादार जानवर हैं और वे घरों तथा खेतों की रक्षा करते हैं. कुत्ते के मांस के कारोबार को अमानवीय और खतरनाक बताने के साथ यह भी कहा गया है कि इससे बीमारियां फैल सकती हैं.

हालांकि कंबोडिया के पुराने लोग आम तौर पर कुत्ते का मांस नहीं खाते हैं क्योंकि उनका मानना है कि इससे दुर्भाग्य आता है लेकिन युवा लोगों में यह फैशन बन रहा है.

(इनपुट: भाषा एजेंसी)

ये भी देखें-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.