close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान ने कहा- उसके राजनयिक अधिकारी के खिलाफ जासूसी के आरोप ‘झूठे और गलत’

पाकिस्तान ने भारत में जासूसी के लिए नई दिल्ली स्थित उच्चायोग में अपने अधिकारी को अवांछित करार दिए जाने की निंदा की और अपने राजनयिक के खिलाफ आरोपों को ‘गलत और अप्रमाणित’ बताया। विदेश विभाग ने बयान जारी कर कहा कि हिरासत में लिए जाने और राजनयिक से दुर्व्‍यवहार की हम निंदा करते हैं। पाकिस्तान ने कहा कि उनके राजनयिक अधिकारी के खिलाफ लगाये गये आरोप ‘झूठे और निराधार’ हैं।

इस्लामाबाद : पाकिस्तान ने भारत में जासूसी के लिए नई दिल्ली स्थित उच्चायोग में अपने अधिकारी को अवांछित करार दिए जाने की निंदा की और अपने राजनयिक के खिलाफ आरोपों को ‘गलत और अप्रमाणित’ बताया। विदेश विभाग ने बयान जारी कर कहा कि हिरासत में लिए जाने और राजनयिक से दुर्व्‍यवहार की हम निंदा करते हैं। पाकिस्तान ने कहा कि उनके राजनयिक अधिकारी के खिलाफ लगाये गये आरोप ‘झूठे और निराधार’ हैं।

इसने कहा कि भारत की कार्रवाई ‘पूरी तरह नकारात्मक और मीडिया के जानबूझकर चलाए गए अभियान’ के कारण है। इसने कहा कि यह कदम ‘स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि भारत पाकिस्तानी उच्चायोग के कामकाज का दायरा सीमित करना चाहता है।’ बयान में कहा गया है, नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के एक सदस्य को कल (26 अक्तूबर 2016) भारतीय अधिकारियों ने गलत और अप्रमाणित आरोपों में पकड़ा। बहरहाल हमारे उच्चायोग के हस्तक्षेप से उसे तीन घंटे के अंदर रिहा कर दिया गया। बयान में दावा किया गया, हम भारत के आरोपों से इंकार करते हैं और भारतीय कार्रवाई की निंदा करते हैं जो वास्तव में वियना सम्मेलन के साथ ही राजनयिक नियमों का उल्लंघन है और खासकर इस खराब चल रहे माहौल में।

बयान में कहा गया कि पाकिस्तान उच्चायोग अंतरराष्ट्रीय कानून और राजनयिक नियमों के तहत हमेशा काम करता रहा है। यह आरोप लगाया गया कि तनाव बढ़ाने के भारत के प्रयास और कश्मीर में ‘घोर मानवाधिकार उल्लंघन’ की तरफ से अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान भटकाने का षड्यंत्र कभी सफल नहीं होगा। (एजेंसी इनपुट के साथ)