मार्क्सवाद की कामयाबी का पुख्ता सबूत है चीन : शी जिनपिंग

शी जिनपिंग ने कहा, ‘मार्क्सवाद ने पूरी तरह से न सिर्फ विश्व को , बल्कि चीन को भी बदल दिया है. ’

मार्क्सवाद की कामयाबी का पुख्ता सबूत है चीन : शी जिनपिंग
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और अन्य मार्क्स की 200 वीं जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में राष्ट्रगान गाते हुए. (फोटो साभार - रॉयटर्स)

बीजिंग: चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने शुक्रवार को कहा कि 97 साल से समाजवाद के कार्ल मार्क्स के सिद्धांत के प्रति कम्युनिस्ट पार्टी की निष्ठा ‘पूरी तरह’ सही है और इसने चीन को ‘‘ एशिया के बीमार व्यक्ति ’’ से विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में तब्दील कर दिया है. चीन में मार्क्सवाद का गहरा प्रभाव है जहां छात्र माध्यमिक स्कूल में मार्क्स और लेनिन के सिद्धांतों के बारे में जानना शुरू कर देते हैं. अमेरिका के बाद चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. 

शी ने यहां मार्क्स की 200 वीं जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में कहा , ‘ विश्व में समाजवाद के विकास में झटके लगे हो सकते हैं , लेकिन कुल मिलाकर मानव समाज के विकास की प्रवृत्ति में बदलाव नहीं हुआ है और न ही कभी यह बदलेगी.’  उन्होंने कहा , ‘‘ मार्क्सवाद ने पूरी तरह से न सिर्फ विश्व को , बल्कि चीन को भी बदल दिया है. ’’ शी ने कहा कि यह जबर्दस्त बदलाव इस बात का पुख्ता सबूत है कि हम केवल समाजवाद के जरिए ही चीन को बचा सकते हैं. 

चीन ने किया अमेरिका के आरोपों से इनकार 
चीन ने शुक्रवार को अमेरिका के इस आरोप से इनकार किया कि होर्न ऑफ अफ्रीका प्रायद्वीप में जिबूती सैन्य रसद अड्डे पर उसके कर्मियों ने अमेरिकी विमान को निशाना बनाने के लिए सैन्य ग्रेड के लेजर का इस्तेमाल किया और विमान के पायलट घायल हो गए. चीन ने कहा कि पेंटागन के आरोप ‘निराधार’ हैं. वाशिंगटन पोस्ट की खबर के अनुसार अमेरिका ने चीन से औपचारिक शिकायत की है कि चीनी सेना ने जिबूती में अमेरिकी विमान को उच्च क्षमता वाले लेजर से निशाना बनाकर दो अमेरिकी चालकों को घायल कर दिया. 

अखबार के अनुसार लेजर वाली यह घटना चीन द्वारा 2017 में जिबूती में अपना पहला विदेशी सैन्य अड्डा खोलने के बाद पहले बड़ी झड़प के रुप में सामने आई है. लेजर पायलट को अस्थायी रुप से अंधा कर सकता है. चीन के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में अमेरिकी अधिकारियों के आरोपों को बेबुनियाद कहकर खारिज कर दिया. 

चीन के विदेश मंत्रालय ने भी आरोपों से इनकार किया है. विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने संवाददाताओं से कहा , ‘‘ सावधानीपूर्वक जांच के बाद हमने अमेरिका से स्पष्ट तौर पर कहा है कि आरोपों का तथ्यों से तालमेल नहीं बिठता. ’’ 

वाशिंगटन पोस्ट के अनुसार पेंटागन की प्रवक्ता डाना डब्ल्यू व्हाइट ने कहा कि अमेरिका ने चीन से हाल के हफ्ते की घटना की जांच करने का अनुरोध किया है जिसमें अनधिकृत चीनी लेजर गतिविधि से जिबूती में अमेरिकी विमान प्रभावित हुआ. 

(इनपुट - भाषा)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.