भ्रष्टाचार के दोषी चीन के पूर्व सुरक्षा प्रमुख योंगकांग को उम्रकैद

चीन के शीर्ष कम्युनिस्ट नेता और पूर्व सुरक्षा प्रमुख झोउ योंगकांग को भ्रष्टाचार, अधिकारों के दुरूपयोग और देश की गोपनीय बातें लीक करने के मामले में आज उम्रकैद की सजा सुनायी गयी। राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा चलाए जा रहे देशव्यापी भ्रष्टाचार निरोधी अभियान के तहत सजा पाने वाले झोउ सबसे वरिष्ठ अधिकारी हैं।

बीजिंग : चीन के शीर्ष कम्युनिस्ट नेता और पूर्व सुरक्षा प्रमुख झोउ योंगकांग को भ्रष्टाचार, अधिकारों के दुरूपयोग और देश की गोपनीय बातें लीक करने के मामले में आज उम्रकैद की सजा सुनायी गयी। राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा चलाए जा रहे देशव्यापी भ्रष्टाचार निरोधी अभियान के तहत सजा पाने वाले झोउ सबसे वरिष्ठ अधिकारी हैं।

थ्यानचिन म्युनिसिपल नंबर-1 इंटरमिडिएट पीपुल्स कोर्ट ने 73 वर्षीय झोउ को आज सजा सुनायी। देश की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) ने उनपर अप्रैल में आरोप तय किए थे। पार्टी ने सेवानिवृत्त पार्टी नेताओं के खिलाफ कार्यवाही नहीं करने की दशकों पुरानी परिपाटी को तोड़ते हुए यह कार्रवाई की है।

झोउ ने यहां से करीब 120 किलोमीटर दूर थ्यानचिन में 22 मई को हुई गोपनीय सुनवायी के दौरान अपना अपराध स्वीकार किया और कहा कि वह अपनी सजा के खिलाफ अपील नहीं करेंगे। सजा की खबर सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ पर आयी है और उसे सरकारी टीवी चैनल में भी सुनाया गया है।

टेलीविजन पर उदास लग रहे सफेद बालों वाले झोउ को पुलिस द्वारा अदालत लाते हुए और बाद में गंभीरता से अपना सजा सुनते हुए दिखाया गया। शिन्हुआ की खबर के अनुसार, देश की गोपनीय सूचनाएं लीक करने के मामले की सुनवायी होने के कारण यह जनता के लिये खुली नहीं थी। पूर्व राष्ट्रपति हू चिनताओ के करीबी सहयोगी को करीब 13 करोड़ युआन (2.13 करोड़ डॉलर) की रिश्वत लेने, अधिकारों का दुरूपयोग करने और जानबूझ कर देश की गोपनीय बातें लीक करने का दोषी पाया गया।

प्रभावशाली सुरक्षा मंत्री झोउ 2007 से 2012 तक सर्वोच्च निर्णायक संस्था सत्तारूढ सीपीसी की नौ सदस्यीय स्थायी समिति के सदस्य थे। हू चिनफिंग के प्रशासन के तहत झोउ सुरक्षा मंत्री थे। इस शक्तिशाली पद पर होने के कारण वह सीपीसी सहित सभी शीर्ष लोगों पर नजर रख सकते थे। वर्ष 2012 में सेवानिवृत्त होने से पहले तक झोउ को सीपीसी का सबसे प्रभावशाली नेता माना जाता था। यहां तक कि उन पर हू की जासूसी करने का भी आरोप था।