Zee Rozgar Samachar

चीन में बनाए गए फर्जी Facebook पेज, अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश

नबंवर में होने जा रहे अमेरिकी राष्‍ट्रपति पद के चुनावों को प्रभावित करने के मकसद से चीन में Facebook पर कई फर्जी पेज बनाए गए थे.

चीन में बनाए गए फर्जी Facebook पेज, अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश
डोनाल्ड ट्रम्प और जो बिडेन (रायटर्स)

वॉशिंगटन: नवंबर में होने जा रहे अमेरिकी राष्‍ट्रपति पद के चुनावों को प्रभावित करने के मकसद से चीन में Facebook पर कई फर्जी पेज बनाए गए थे. दिग्‍गज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने बड़ी कार्रवाई करते हुए इन फर्जी पेजों को हटा दिया है. इन पेजों पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन दोनों के समर्थन में और विरोध में सामग्री पोस्ट की जा रही थी.

फेसबुक सीधे तौर पर तो इस नेटवर्क को चीनी सरकार के साथ नहीं जोड़ रहा है. हालांकि फेसबुक ने कहा कि इन अकाउंट्स को संचालित करने वाले नेटवर्क के पीछे के लोगों ने वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क और अन्य तरीकों के जरिए अपनी पहचान और लोकेशन छिपाने की कोशिश की थी.

ये भी पढ़ें: करोड़पति बिजनेसमैन ने नौकरानी पर लगाया ऐसा आरोप, हर जगह हो रही थू-थू

इस कार्रवाई को लेकर सोशल नेटवर्किंग कंपनी ने कहा है कि उसने 6 इंस्टाग्राम अकाउंट्स समेत फेसबुक के 155 अकाउंट्स को सस्‍पेंड कर दिया है.

फेसबुक साइबर स्पेस पॉलिसी के प्रमुख नथानिएल ग्लीचर ने कहा कि कंपनी को सबसे पहले इन चीन-बेस्‍ड अकांउट्स को अमेरिकी राजनीति में किसी भी तरह के हस्‍तक्षेप करने से अलग करना था. 

मंगलवार को ही एफबीआई और होमलैंड सिक्योरिटी की साइबर सिक्योरिटी एजेंसी ने चुनाव में हस्‍तक्षेप करने के विदेशी प्रयासों को लेकर चेतावनी दी थी. चेतावनी में कहा गया था कि विदेशी पक्ष और साइबर अपराधी फर्जी वेबसाइट या सोशल मीडिया कंटेंट के जरिए चुनाव के नतीजों को लेकर गलत जानकारियां साझा करने की कोशिश कर सकते हैं. इनका मकसद चुनाव की प्रकिया को बदनाम करने का है. 

बता दें कि अमेरिकी खुफिया (US Intelligence) अधिकारियों ने पिछले महीने चीन, रूस और ईरान द्वारा नवंबर के चुनावों में हस्तक्षेप करने के लिए चल रहे प्रयासों या भविष्‍य में ऐसा करने की कोशिशों को लेकर चेतावनी दी थी. अगस्त में हुए एक पब्लिक असिसमेंट में देश के काउंटर इंटेलीजेंस के चीफ ऑफिसर विलियम इवानिना ने कहा था कि बीजिंग ट्रंप को अप्रत्याशित मानता है और उन्‍हें बिडेन से हारते हुए देखना चाहता है.

बयान में कहा गया कि चीन (China) चुनाव से पहले अपने प्रभाव का विस्तार कर रहा है ताकि वह संयुक्त राज्य अमेरिका में पॉलि‍सी एन्‍वॉयरन्‍मेंट को आकार दे सके. साथ ही वह और अधिक आक्रामक कार्रवाई करने के लिए पक्ष और विपक्ष में तुलना करके यह जानने की कोशिश भी कर रहा है कि किसका पलड़ा भारी है. 

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.