close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चीन ने कहा - BRI को लेकर भारत पर दबाव नहीं डालेगा, अरबों डॉलर का है प्रोजेक्ट

चीन ने कहा कि आपसी-संपर्क को लेकर भारत के साथ उसका कोई बुनियादी मतभेद नहीं है.

चीन ने कहा - BRI को लेकर भारत पर दबाव नहीं डालेगा, अरबों डॉलर का है प्रोजेक्ट
चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग ने 2013 में सत्ता में आने के बाद बीआरआई की शुरुआत की थी..(फोटो साभार: रॉयटर)

वुहान: चीन ने शनिवार को कहा कि आपसी-संपर्क को लेकर भारत के साथ उसका कोई बुनियादी मतभेद नहीं है और बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) को लेकर वह नई दिल्ली पर अधिक दबाव नहीं डालेगा. चीन के राष्ट्रपति शी जिनफिंग ने 2013 में सत्ता में आने के बाद कई अरब डॉलर के इस योजना की शुरुआत की थी. बीआरआई दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में बड़ा बाधक रहा है. इस योजना के अंतर्गत चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपेक) भी शामिल है, जिसका भारत विरोध करता रहा है क्योंकि यह योजना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति शी जिनफिंग की दो दिन की अनौपचारिक शिखर बैठक के समाप्त होने के बाद चीन के उप विदेश मंत्री कांग श्वानयू ने कहा, ‘‘हमें लगता है कि आपसी संपर्क को बढ़ावा देने के मुद्दे पर चीन और भारत के बीच कोई बुनियादी मतभेद नहीं है.’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘जहां तक भारत द्वारा बेल्ट एंड रोड को स्वीकार किए जाने की बात है तो मुझे नहीं लगता है कि यह अहम है और चीन इसको लेकर दबाव नहीं डालेगा.’’ 

भारत ने पिछले साल चीन द्वारा आयोजित बेल्ट एंड रोड फोरम का बहिष्कार किया था. कांग ने कहा कि चीन और भारत अपने सीमा विवाद का उचित समाधान चाहते हैं. उप विदेश मंत्री ने कहा कि दोनों देश सैन्य और सुरक्षा संपर्क तंत्र को बेहतर बनाने की दिशा में काम करेंगे. 

शी और मोदी की अनौपचारिक बैठक को ‘सफल और मील का पत्थर’ करार देते हुए कहा कि कांग ने कहा कि इस बैठक का लक्ष्य किसी खास समस्या को सुलझाना नहीं था बल्कि इसका मुख्य उद्देश्य संपर्क को मजबूत बनाना, रिश्तों को रणनीतिक दिशा देना और दोनों नेताओं के बीच आपसी विश्वास को बढ़ाना था. मोदी और शी की बातचीत का हिस्सा रहे कांग ने कहा कि पिछले दो दिनों में दोनों नेता सहज और मित्रतापूर्ण माहौल में छह बार मिले. मंत्री ने कहा कि शी ने इस बात पर बल दिया कि चीन और भारत के बीच की समस्याएं ‘अस्थायी’ हैं लेकिन सहयोग ‘चिरस्थायी’ है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इस बात से पूरी तरह सहमत थे कि दोनों पक्षों को अपने मतभेदों को उचित तरीके से दूर करना चाहिए.