Breaking News
  • पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फोन पर बात की, 4 मुद्दों पर हुई बातचीत
  • भारत का मस्तक किसी भी हाल में झुकने नहीं देंगे: Zee News से बोले राजनाथ सिंह
  • प्रधानमंत्री के नेतृत्व पर देश को भरोसा: भारत-चीन विवाद पर Zee News से बोले राजनाथ सिंह
  • लद्दाख में तनाव कम करने को लेकर भारत-चीन के बीच नहीं निकला कोई हल, अगली चर्चा 6 जून को

दावा! सिगरेट बनाने वाली कंपनी ने तंबाकू से तैयार किया कोरोना का वैक्सीन

कंपनी के मुताबिक इस वैक्सीन में इस्तेमाल किए गए तत्व तंबाकू के पौधों से लिए गए हैं.

दावा! सिगरेट बनाने वाली कंपनी ने तंबाकू से तैयार किया कोरोना का वैक्सीन
(प्रतीकात्मक तस्वीर )

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इस महामारी ने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है. दुनाया इसकी वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रही है लेकिन अब तक वैज्ञानियों के हाथ खाली हैं. दुनियाभर के मेडिकल एक्सपर्ट्स इसकी वैक्सीन तैयार करने में जुटे हैं. इस बीच एक ब्रिटिश अमेरिकी कंपनी ने तंबाकू से कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार करने का दावा किया है. 

विश्व की दूसरी सबसे बड़ी तंबाकू कंपनी ब्रिटिश अमेरिकन टोबैको (British American Tobacco) का दावा है कि उन्होंने तंबाकू के पौधों से कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली है. कंपनी के मुताबिक इस वैक्सीन में इस्तेमाल किए गए तत्व तंबाकू के पौधों से लिए गए हैं. वैक्सीन बनाने के लिए कोरोना वायरस का एक हिस्सा कृत्रिम रूप से तैयार किया गया, इसके बाद इसे तंबाकू की पत्तियों पर छोड़ा गया जिस से इसकी संख्या बढ़ा सकें. लेकिन जब ये पत्तियां काटी गईं तो इसमें वायरस नहीं मिला.

ये भी पढ़ें- हवाई यात्रा करने से पहले पढ़ लें ये नई गाइडलाइंस, कई नियमों में किए गए बदलाव

तंबाकू की पत्तियों से वैक्सीन तैयार करने वाली कंपनी की मानें तो वैक्सीन बनाने का ये तरीका न सिर्फ सबसे तेज है बल्कि पूरी तरह से सुरक्षित भी है. इतना ही नहीं इसे ज्यादा ठंडे तापमान में स्टोर करने की भी जरूरत नहीं पड़ती. इसे सामान्य तापमान में ही रखा जा सकता है. इसका सिंगल डोज ही इम्यून सिस्टम के लिए असरदार साबित होगा.

कंपनी के मुताबिक इस वैक्सीन का प्री क्लीनिकल ट्रायल अप्रैल में किया गया था जिसके नतीजे सफल रहे और अब इंसानों पर इसके ट्रायल की तैयारी शुरू की जा रही है. फिलहाल इसके ट्रायल के लिए फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से अनुमति मांगी गई है. अगर ये ट्रायल इंसानों पर सफल हो जाता है तो यह महामारी के बीच वरदान साबित होगा.

ये भी देखें-