चीन: 17 साल पहले फैली इस भयानक बीमारी से भी बड़ा खतरा बन गया है Coronavirus
X

चीन: 17 साल पहले फैली इस भयानक बीमारी से भी बड़ा खतरा बन गया है Coronavirus

2003 में फैले उस वायरस की वजह से चीन में लगभग 349 ने दम तोड़ा था.

चीन: 17 साल पहले फैली इस भयानक बीमारी से भी बड़ा खतरा बन गया है Coronavirus

नई दिल्ली: आज से ठीक 17 साल पहले चीन में सार्स (SARS) नाम के जानलेवा वायरस का संक्रमण फैला था. जिसमें लगभग 5,327 चीनी नागरिक संक्रमित हुए थे. 2003 में फैले उस वायरस की वजह से चीन में लगभग 349 ने दम तोड़ा था. लेकिन अब ठीक उस घटना के 17 साल बाद 2020 में आए नए वुहान कोरोना वायरस (Corona Virus) चीन के लिए और खतरनाक साबित हो रहा है. अब तक सिर्फ चीन में ही लगभग 7,700  नागरिक कोरोना वायरस की गिरफ्त में आ चुके हैं. आधिकारिक आंकड़ों के हिसाब से पड़ोसी देश में ही लगभग 170 लोग दम तोड़ चुके हैं. 

WHO ने सार्स वायरस को महामारी घोषित किया था
सार्स भी चीन से ही पैदा हुआ एक वायरस था. इस वायरस की वजह से पूरी दुनिया में हजारो लोग संक्रमित हुए थे. सार्स वायरस के संक्रमण और मौतों को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे महामारी घोषित किया था. इस वायरस की वजह से 17 देशों में 774 लोगों की मौत हुई थी. 

ये भी पढ़े: Coronavirus: ये 5 उपाय अपनाइए, कोरोना वायरस आपको छू भी नहीं सकेगा

पूरी दुनिया क्यों चिंतित है कोरोना वायरस से
संक्रमण मामले से जुड़े एक विशेषज्ञ का कहना है कि चीन में जन्में कोरोना वायरस से चिंतित होना लाजमी है. चीन ने सार्स वायरस के बारे में भी पूरी दुनिया को सही जानकारी नहीं दी थी. सार्स पूरे चीन में तेजी से फैल रहा था और नागरिक संक्रमित होकर मर रहे थे. इसके बावजूद चीनी अधिकारियों ने अंतरराष्ट्रीय संगठनों से सटीक जानकारी छुपा कर इसके बेहद कम मामले बताए थे. इस गलती की वजह से खतरे का सही अनुमान नहीं लग पाया और 17 देशों में हजारों लोग सार्स वायरस से संक्रमित हुए. जानकारी छिपाने की वजह से सही समय पर सार्स से लड़ने के टीके भी नहीं बन पाए थे.

Trending news