Johnson & Johnson के टीके से जम रहा खून का थक्का, अमेरिका ने लगाई रोक

खून के थक्के जमने की रिपोर्ट्स को लेकर जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) के टीके पर अमेरिका ने रोक लगाने का फैसला लिया है. इस टीके की केवल एक खुराक ही दी जा रही थी जबकि अन्य टीके दो खुराक वाले हैं.  

Johnson & Johnson के टीके से जम रहा खून का थक्का, अमेरिका ने लगाई रोक
फाइल फोटो साभार: Reuters

वाशिंगटन: अमेरिका ने जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) के एक खुराक वाले Covid-19 के टीके पर अस्थायी रोक लगाने की सिफारिश की है. अमेरिका ने यह फैसला खून के थक्के (क्लॉट) जमने की रिपोर्टों के बाद लिया है. 

68 लाख से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं

सेंट्रल फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) और फूड एंड ड्रंग प्रशासन (FDA) ने एक बयान में कहा कि वह टीकाकरण के कुछ दिनों बाद छह महिलाओं में खून के थक्के जमने और प्लेटलेट घटने की रिपोर्टों की जांच कर रहा है. बयान में कहा गया है जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson & Johnson) के टीके की अमेरिका में 68 लाख से अधिक खुराक दी जा चुकी है. 

कई अस्पतालों में पहले से रोक

इसी मामले में बुधवार को CDC एडवाइजरी कमेटी ऑफ इम्युनाइजेशन प्रेक्टिस (ACIP) की बैठक बुलाई गई है. बैठक में अब तक मिले केस की समीक्षा की जाएगी और आगे की रणनीति तैयार की जाएगी. FDA पूरे मामले की जांच करेगी. ब्लड क्लॉट की शिकायत के बाद जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन पर चार क्लीनिक पहले ही रोक लगा चुके हैं. 

यह भी पढ़ें; UP के कई जिलों में लग सकता है Lockdown, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जताई चिंता

बताई गई ये खासियत

कोरोना की सभी वैक्सीन की दो खुराक दी जा रही हैं लेकिन जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन की इन सबसे अलग खासियत बताई गई. इस वैक्सीन की खास बात यह थी कि इसकी दो खुराक लेने की जरूरत नहीं है, इसका एक ही टीका काफी बताया जा रहा था लेकिन ब्लड क्लॉट की शिकायत के बाद वैक्सीन सवालों के घेरे में है.

क्या कहना है FDA का 

हालांकि, दो अन्य टीके मॉडरेना और फाइजर, पर यह अस्थायी रोक लागू नहीं होगी. एफडीए के कार्यकारी आयुक्त जैनेट वुडकॉक ने कहा, ‘मैं इस बात पर बल देना चाहूंगा कि ये घटनाएं दुर्लभ हैं लेकिन कोविड-19 टीका सुरक्षा शीर्ष प्राथमिकता है. हम आशा करते हैं कि अस्थायी रोक महज चंद दिनों की बात है.’

ये समस्या तो तुरंत अस्पताल में संपर्क करें
सीडीसी की चीफ उप निदेशक डॉ एनी सुचैट ने कहा कि अधिकारियों के सामने फाइजर या मॉडरेना के संदर्भ में ऐसे थक्के के मामले सामने नहीं आये हैं और लोगों को ये टीके लेना जारी रखना चाहिए. सुचैट और एफडीए के सेंटर फॉर बायोलॉजिक्स इवैलुएशन एंड रिसर्च के निदेशक डॉ पीटर मार्क्स ने संयुक्त बयान में कहा, ‘‘प्रक्रिया पूरी होने तक, हम इस टीके के उपयोग पर अस्थायी रूप से रोक लगाने की सिफारिश कर रहे हैं.’ उन्होंने सुझाव दिया है कि जिन लोगों को जॉनसन एंड जॉनसन का टीका लगवाने के बाद तीन हफ्तों के अंदर सिरदर्द, पेट दर्द, पैरों में दर्द, या जल्दी-जल्दी सांस लेने की समस्या हुई है, वे अस्पताल में संपर्क करें.

क्या कहना है जॉनसन एंड जॉनसन का

वहीं जॉनसन एंड जॉनसन ने एक बयान में कहा है कि उसे थक्का जमने की खबरों की जानकारी है लेकिन उसका टीके से कोई संबंध स्थापित नहीं हुआ है. उसने कहा कि एहतियात के तौर पर वह यूरोप में इसमें देरी कर रहा है. अमेरिकी स्वास्थ्यय अधिकारियों ने डॉक्टरों को खून के थक्के पाये जाने से इसके (खून के थक्कों) इलाज में आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला ब्लड थिनर ‘हेपरिन’ (दवा) का इस्तेमाल करने से मना किया है.

VIDEO भी देखें-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.