ब्रिटेन की पीएम टेरीजा मे बोलीं, दिवाली ने हिंदू संस्कृति को बेहतरीन तरीके से दिखाया है

ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन ने इस अवसर पर कहा, ‘‘मेरी सास भारतीय हैं जिनका नाम दीप है और उसका अर्थ रौशनी होता है. इस तरह, दिवाली मेरी सास का उत्सव मनाने का एक अवसर है.’’

ब्रिटेन की पीएम टेरीजा मे बोलीं, दिवाली ने हिंदू संस्कृति को बेहतरीन तरीके से दिखाया है
ब्रुसेल्स में आयोजित यूरोपीय संघ के नेताओं के शिखर सम्मेलन के दौरान न्यूज कॉन्फ्रेंस करतीं ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे. (Reuters/20 Oct, 2017)

लंदन: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने दिवाली के अवसर पर हिंदू समुदाय को शुभकामना देते हुए कहा कि यह जिंदगी जीने का त्यौहार है, जो हिंदू संस्कृति को सर्वश्रेष्ठ रूप में प्रदर्शित करता है. प्रमुख प्रवासी भारतीय (एनआरआई) कारोबारी हिंदुजा बंधु के आवास पर बीती रात (20 अक्टूबर) को आयोजित दिवाली समारोह में पढ़े गए एक संदेश में टेरीजा ने कहा कि दिवाली ने जीवन को प्रदर्शित करने, आदर एवं सम्मान की शिक्षा देने और भविष्य को बदलने के लिए अतीत की घटनाओं का सम्मान करने के सारे अवसर दिए हैं.

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि दिवाली जिंदगी जीने का त्यौहार है, जो हिंदू संस्कृति को इसके सर्वश्रेष्ठ रूप में प्रदर्शित करता है. इस संदेश को ब्रिटेन की अंतरराष्ट्रीय विकास मामलों की विदेश मंत्री प्रीति पटेल ने पढ़ा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ब्रसेल्स में हैं और ‘ब्रेग्जिट’ पर बातचीत में हमारे राष्ट्रीय हितों के लिए लड़ रही हैं. संदेश में प्रधानमंत्री ने इस बात का भी जिक्र किया कि हिंदू समुदाय ने यहां ब्रिटेन में और यूरोप के जनजीवन में एक अहम योगदान दिया है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन ने इस अवसर पर कहा, ‘‘मेरी सास भारतीय हैं जिनका नाम दीप है और उसका अर्थ रौशनी होता है. इस तरह, दिवाली मेरी सास का उत्सव मनाने का एक अवसर है.’’ हिंदुजा समूह के सह अध्यक्ष जीपी हिंदुजा ने कहा कि दिवाली रौशनी का त्यौहार है जब आप अतीत में हुई हर चीज भूल जाते हैं, दुश्मनों को भूल जाते हैं, गलत काम भूल जाते हैं और हर किसी के साथ एक नया एवं अच्छा अध्याय शुरू करते हैं. ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त वाई के सिन्हा ने भी इस अवसर पर अपने विचार प्रकट किए.

दिवाली का महत्व अमेरिकी संसद तक, भारतीय-अमेरिकी सांसद ने प्रस्ताव किया पेश

इससे पहले भारतीय-अमेरिकी सांसद राजा कृष्णमूर्ति ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में दीपों के पर्व दिवाली के ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व को स्वीकार करने वाला एक प्रस्ताव पेश किया. यह प्रस्ताव शुक्रवार (20 अक्टूबर) को पेश किया गया और इसका समर्थन पांच अन्य सांसदों ने भी किया. प्रमिला जयपाल, रो खन्ना, तुलसी गबार्ड, एमी बेरा और जोए क्रोले ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया. इस प्रस्ताव को जरूरी कार्रवाई के लिए सदन की विदेश संबंधों की समिति के पास भेज दिया गया है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.