डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं चाहता हूं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं, लेकिन...

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह चाहते हैं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं. 

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं चाहता हूं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं, लेकिन...
व्हाइट हाउस योग्यता आधारित आव्रजन व्यवस्था पर जोर दे रहा है. (फाइल फोटो)

वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह चाहते हैं कि दुनिया के हर हिस्से से प्रवासी आएं. उनका यह बयान तब आया है जब व्हाइट हाउस योग्यता आधारित आव्रजन व्यवस्था पर जोर दे रहा है. ट्रंप ने हाल ही में उनके बयान को लेकर पैदा हुए विवाद पर एक सवाल के जवाब में कहा, मैं चाहता हूं कि प्रवासी हर जगह से आएं. ट्रंप ने कथित तौर पर कहा था कि वह चाहते हैं कि नॉर्वे से और अधिक लोग आए.

इससे पहले व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने संवाददाताओं से कहा कि राष्ट्रपति आवेदक के देश, धर्म और जातीयता पर ध्यान दिए बिना योग्यता आधारित व्यवस्था पर जोर दे रहे हैं. सैंडर्स ने कहा, वह चाहते हैं कि प्रवासी हर कहीं से आए लेकिन वह योग्यता आधारित व्यवस्था के जरिए ऐसा करना चाहते हैं. उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, योग्यता आधारित व्यवस्था नस्ल, धर्म या देश पर आधारित नहीं है. यह असल में योग्यता पर आधारित है. सैंडर्स ने कहा कि यह अधिक निष्पक्ष व्यवस्था है और एक साल पहले डेमोक्रेट सदस्यों ने इसका समर्थन किया था. 

यह भी पढ़ें- अमेरिका-तुर्की में बढ़ा तनाव, दोनों देशों ने वीजा सेवाएं की निलंबित

अमेरिका का H1B वीजा को और विस्तार नहीं देने पर विचार

भारत के सूचना प्रौद्योगिकी पेशेवरों द्वारा प्रमुख तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एच1बी वीजा को अमेरिका और विस्तार नहीं देने संबंधी नियम बनाने पर विचार कर रहा है. यह राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ‘खरीदो अमेरिकी सामान, रोजगार दो अमेरिकी को’ (बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन) पहल का हिस्सा है. इस कदम से ऐसे हजारों विदेशी कर्मचारी जिनका ग्रीन कार्ड आवेदन लंबित है उनके द्वारा एच1बी वीजा कायम रखने पर सीधे रोक लग जाएगी.

‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’
अमेरिका की समाचार संवाद समिति मैकक्लैची के डीसी ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार इस संबंध में एक प्रस्ताव अमेरिका के गृह सुरक्षा विभाग के प्रमुखों के बीच साझा किया गया है. यह ट्रंप की ‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ पहल का हिस्सा है, जिसके बारे में उन्होंने अपने 2016 के चुनावी अभियान में वादा किया था. इस प्रस्ताव का उद्देश्य एच1बी वीजा के दुरुपयोग को रोकना है. साथ ही जिन लोगों के पास पहले से ग्रीनकार्ड है उनके लिए इस वीजा की अवधि बढ़ाने वाले प्रावधान को खत्म करना है.

अभी मिलता है दो बार विस्तार
रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान में यह कानून आवेदक का ग्रीन कार्ड लंबित रहने के दौरान तीन वर्ष की अवधि के लिए उसके एच1बी वीजा का दो बार विस्तार करने की इजाजत देता है. इसके बाद भी आवश्यकता महसूस करने पर अमेरिकी प्रशासन इस अवधि को और बढ़ा सकता है. उल्लेखनीय है कि इस वीजा का उपयोग अधिकतर भारतीय आव्रजक करते हैं. एक सूत्र ने बताया, ‘‘इसके पीछे विचार है अमेरिका में हजारों भारतीय प्रौद्योगिकी कर्मचारियों के लिए एक तरह से ‘स्व-निर्वासन’ का माहौल तैयार करना ताकि वह रोजगार अमेरिकियों को मिल सकें.’’

इनपुट भाषा से भी