US जल्‍द ही अफगानिस्‍तान, इराक से सैनिकों को बुला सकता है स्‍वदेश

डोनाल्ड ट्रंप इसी सप्‍ताह अफगानिस्तान और इराक अमेरिकी सैनिकों को वापस देश बुलाने के आदेश जारी कर सकते हैं. इस संबंध में अमेरिका के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है. 

US जल्‍द ही अफगानिस्‍तान, इराक से सैनिकों को बुला सकता है स्‍वदेश

नई दिल्लीः अमेरिकी चुनाव में भले ही डोनाल्ड ट्रंप को हार मिली हो लेकिन वे इसे किसी भी कीमत पर नहीं स्वीकार कर रहे हैं. हालांकि उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन ने भी ट्रंप की हार स्वीकार कर ली है और देश के नव निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को प्रशासन का बहुत पेशेवर तरीके से हस्तांतरण कराने के वादा भी किया है. ट्रंप को लेकर इसी बीच खबर है कि वे इस सप्‍ताह में अफगानिस्तान और इराक अमेरिकी सैनिकों को वापस देश बुलाने के आदेश जारी कर सकते हैं. इस संबंध में अमेरिका के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है.

पेंटागन ने अमेरिकी कमांडर्स को एक नोटिस जारी किया है जिसे वार्निंग ऑर्डर समझा जा रहा है. इस नोटिस में अधिकारियों को इराक और अफगानिस्तान में मौजूद अपने सैनिकों की संख्या को आधी यानी 2,500 तक करने को कहा गया है. यह सब ट्रंप के कार्यकाल के आखिरी कुछ सप्ताह में किया जाएगा. 

अफगानिस्तान में 5000 और इराक में 3000 हैं अमेरिकी सैनिक
पेटागन के अधिकारी ने बताया कि अफगानिस्तान में अभी 4,500 से 5,000 और इराक में 3,000 से अधिक अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं. डोनाल्ड ट्रंप कुछ समय पहले एक ट्वीट में कहा था कि नए साल से पहले वे इराक और अफगानिस्तान से सैनिकों की आधी संख्या को वापस अमेरिका बुलाएंगे. 

ये भी पढ़ें-ISI का था ओसामा से कनेक्शन? ओबामा ने किताब में किया बड़ा खुलासा

इस कारण ट्रंप ने मार्क एस्पर से छीनी थी सेवा
क्रिस्टोफर मिलर की कार्यवाहक रक्षा मंत्री के रूप में नियुक्ति की बाद ऐसे संकेत पहले ही मिल चुके थे कि ट्रंप अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने के काम में तेजी ला सकते हैं. तत्कालीन रक्षा सचिव मार्क एस्पर ने इस महीने की शुरुआत में व्हाइट हाउस को एक ज्ञापन भेजा था जिसमें कहा गया था कि जब तक कि पूरी शर्ते नहीं हो जाती हैं तब तक अमेरिका अफगानिस्तान में अपनी सेना की मौजूदगी को कम नहीं करेगा. उनके इसी मेमो को लेकर ट्रंप ने उन्हें सेवा से वंचित कर दिया था. 

ये भी पढ़ें-केवल इस डर की वजह से लव मैरिज नहीं कर रहीं जापान की राजकुमारी

ट्रंप ने खुद ही एक ट्वीट पर इस खबर की जानकारी दी थी कि "मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि क्रिस्टोफर सी. मिलर, राष्ट्रीय प्रतिवाद केंद्र के उच्च सम्मानित निदेशक (सर्वसम्मति से सीनेट द्वारा पुष्टि), कार्यवाहक रक्षा सचिव होंगे."

क्रिस्टोफर मिलर बने ट्रंप के कार्यवाहक रक्षा मंत्री 
मालूम हो राष्ट्रपति ट्रंप ने मार्क एस्पर की जगह पर राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधक केंद्र के डायरेक्टर क्रिस्टोफर मिलर को कार्यवाहक रक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया. पदभार ग्रहण करने के तुरंत बाद, मिलर ने संकेत दिया कि वह अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने के काम में तेजी ला सकते हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इराक और अफगानिस्तान में सैनिकों की संख्या कम करने का कार्यकारी आदेश तैयार किया जा रहा है. पेंटागन ने कमांडरों को नोटिस जारी किया है कि वे अफगानिस्तान और इराक दोनों से मध्य जनवरी तक सैनिकों की संख्या 2,500 के स्तर तक कम करने की योजना शुरू करें. अधिकारी ने बताया कि सेना प्रमुखों को सप्ताहांत में इसकी जानकारी दी गई और कार्यकारी आदेश तैयार किया जा रहा है. 

 

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.