Breaking News
  • कोरोना से मृत्यु दर 1% से कम करने का लक्ष्य: PM मोदी
  • आरोग्य सेतु ऐप के जरिए संक्रमित लोगों के करीब पहुंच सकते हैं: PM मोदी
  • 72 घंटे में संक्रमण की जानकारी से खतरा कम: PM मोदी
  • देश में फिलहाल हर रोज 7 लाख टेस्टिंग: PM मोदी

इंडोनेशिया के जावा और बाली में आए भूकंप के तेज झटके, 3 की मौत

अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप का केंद्र जावा द्वीप के पूर्वी छोर से करीब 40 किलोमीटर दूर बाली सागर में था.

इंडोनेशिया के जावा और बाली में आए भूकंप के तेज झटके, 3 की मौत
इस भूकंप के कारण इमारतें गिरने से काफी नुकसान की खबर भी आ रही है (प्रतीकात्मक फोटो)

जकार्ता: इंडोनेशिया के जावा और बाली द्वीप पर गुरुवार को 6.0 तीव्रता का भूकंप आया, जिसमें कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई. राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पूर्वो नुग्रोहो ने बताया कि पूर्वी जावा के सुमेनेप प्रांत में इस भूकंप के कारण कई इमारतें गिरने से लोगों को जान भी गंवानी पड़ी.

आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो  के अनुसार, ‘भूकंप गुरुवार को तड़के उस समय आया जब लोग सो रहे थे और अचानक आए भूकंप से लोग दहल उठे. उन्हें घरों से बाहर निकलने का भी वक्त नहीं मिल पाया.’ उन्होंने बताया कि भूकंप से व्यापक स्तर पर नुकसान होने की खबर नहीं है.

भूकंप
भूकंप के झटको के बाद कई इमारतें भी छतिग्रस्त हुई है (प्रतीकात्मक फोटो)

वहीं दूसरी ओर मशहूर पर्यटक स्थल बाली के देनपसार में भी गुरुवार को भूकंप का जबर्दस्त झटका महसूस किया गया. भूकंप के तेज झटकों से घबराए लोग अपने घरों से बाहर की ओर भागने लगें.वहीं बाली के दक्षिण में स्थित नुसा डुआ मे एक होटल में ठहरे कुछ लोग भी अचानक आए इस भूकंप के बाद बाहर की तरफ भागने का प्रयास कर रहे थें. जिस दौरान उन्हें चोट भी लगी.

अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार, भूकंप का केंद्र जावा द्वीप के पूर्वी छोर से करीब 40 किलोमीटर दूर बाली सागर में था. भूकंप के झटके पूर्वी जावा प्रांत की राजधानी सुराबाया में भी महसूस किए गए. वहीं इंडोनेशिया की भूभौतिकी एजेंसी के प्रमुख द्विकोरिता कर्नावती ने मीडिया से बातचीत में कहा, 'भूकंप की तीव्रता काफी थी, लेकिन इससे कोई भी सुनामी नहीं आई.' 

बताते चलें कि इंडोनेशिया आए दिन में भूकंप के तेज झटके महसूस किये जाते हैं. इससे पहले इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर पिछले महीने आए 7.5 तीव्रता के भूकंप में 2,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी.