कैंसर से जंग जीतने वाली बच्ची, ट्रंप के वार्षिक भाषण के दौरान बनी आकर्षण का केंद्र

ग्रेस ने दुर्लभ किस्म के कैंसर से जंग लड़ी. पिछले साल उसकी कीमोथेरेपी हुई थी. बहरहाल, अक्टूबर में उसे कैंसर से मुक्त घोषित कर दिया गया.

कैंसर से जंग जीतने वाली बच्ची, ट्रंप के वार्षिक भाषण के दौरान बनी आकर्षण का केंद्र
(फोटो साभार: ट्विटर/@realDonaldTrump)

वाशिंगटन: अमेरिका में कैंसर से जंग में जीत हासिल करने वाली 10 साल की बच्ची ग्रेस एलीन ने बुधवार को उस वक्त सबका दिल जीत लिया, जब अमेरिकी संसद के दोनों सदनों के अपने संयुक्त संबोधन के दौरान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उसे सभी के लिये एक प्रेरणास्रोत बताया. ग्रेस को ब्रेन ट्यूमर था और उसने बड़ी बहादुरी से उससे अपनी जंग लड़ी. वह छोटी सी उम्र से ही अपने जन्मदिन पर लोगों को उपहार के बजाय सेंट ज्यूड चिल्ड्रेंस रिसर्च हॉस्पिटल को दान देने की अपील करती रही है. ग्रेस जब नौ साल की हुई तो पता चला था कि उसे ब्रेन ट्यूमर है. 

ग्रेस ने दुर्लभ किस्म के कैंसर से जंग लड़ी. पिछले साल उसकी कीमोथेरेपी हुई थी. बहरहाल, अक्टूबर में उसे कैंसर से मुक्त घोषित कर दिया गया. कैंसर से मुक्ति पाने के बाद भी दूसरों को कैंसर से जंग में मदद की कोशिश करती रही. ट्रंप ने अपने संबोधन के मध्य में ग्रेस का जिक्र किया और बाद में सबसे उसका परिचय करवाया. उन्होंने कहा, ''आज रात मैं भी आपसे कहना चाहता हूं कि एक दूसरी लड़ाई में, बचपन में होने वाले कैंसर से लड़ाई में अपना समर्थन दें.'' 

ट्रंप ने कहा, ''आज शाम इस दीर्घा में मेलानिया के साथ जो शामिल हो रही हैं वह 10 साल की ग्रेस एलीन हैं.'' ग्रेस मेलानिया ट्रंप के साथ बैठी थीं. वहां मौजूद लोगों ने जोरदार तालियों के साथ उनका स्वागत किया. ट्रंप ने कहा, ''ग्रेस जब चार साल की थी तब से वह अपने दोस्तों से सेंट जूड्स चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल में दान करने के लिये कहती थी. वह नहीं जानती थी कि एक दिन वह खुद मरीज होगी.''