close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पीएम मोदी जा सकते हैं मिस्र की यात्रा पर, निमंत्रण स्वीकार कर चुके हैं: राजदूत

मिस्र के राजदूत हातिम तागिल्दिन ने कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री ने सैद्धांतिक तौर पर हमारे राष्ट्रपति द्वारा भेजे निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है.

पीएम मोदी जा सकते हैं मिस्र की यात्रा पर, निमंत्रण स्वीकार कर चुके हैं: राजदूत
(फोटो साभार PTI)

नई दिल्ली: भारत में मिस्र के राजदूत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिस्र जाने और राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी से मुलाकात करने की संभावना है. उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने संबंधों में जो गर्मजोशी दिखाई है, उसने कई क्षेत्रों में और अधिक सहयोग का मार्ग प्रशस्त किया है. मिस्र के राजदूत हातिम तागिल्दिन ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘भारतीय प्रधानमंत्री ने सैद्धांतिक तौर पर हमारे राष्ट्रपति द्वारा भेजे निमंत्रण को स्वीकार कर लिया और पुष्टि की कि वह यात्रा करेंगे. लेकिन समय की उपलब्धता के लिए कूटनीतिक माध्यमों से बात करने की जरुरत है.’’ 

रक्षामंत्री सीतारमण भी साल के अंत में मिस्र जा सकती हैं
एक कार्यक्रम से इतर मीडिया से बातचीत में राजदूत ने यह भी कहा कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के भी इस साल के अंत तक देश की यात्रा करने की संभावना है और पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन नवंबर में एक अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता सम्मेलन में भाग ले सकते हैं. पेंट के क्षेत्र की बड़ी कंपनी काप्की कोटिंग्स की भारत में पहली ईकाई खोलने के मौके पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए तागिल्दिन ने मिस्र-भारत संबंधों को ‘‘विशिष्ट’’ बताया और कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि ‘‘सहयोग के और रास्ते तलाशे जाएं.’’ 

सत्ता में आने के बाद से दोनों नेता चार बार मिले हैं
उन्होंने कहा, ‘‘भारत के प्रधानमंत्री और हमारे राष्ट्रपति 2014 में सत्ता में आने के बाद से चार बार मिले हैं. उनके पांचवीं बार मिस्र में मुलाकात करने की संभावना है.’’ मोदी ने सितंबर 2017 में अल-सिसी से चीन के बंदरगाह शहर जियामेन में मुलाकात की थी और उनसे द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए बातचीत की थी.

दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ा है
राजदूत ने कहा कि खासतौर से मेक इन इंडिया, स्वच्छ भारत और कौशल भारत जैसी पहलों के जरिए मौजूदा समय में आर्थिक माहौल आगे के अवसर पैदा करने के लिए ‘‘अनुकूल और बहुत ज्यादा सहायक’’ है. उन्होंने कहा, ‘‘हमारे नेताओं ने संबंधों में जो गर्मजोशी दिखाई है उसने कई क्षेत्रों में और अधिक सहयोग का मार्ग प्रशस्त कर दिया है.’’ राजदूत ने कहा कि अरब देश के विदेश मंत्री सामेह शोक्री ने मार्च में भारत की यात्रा के दौरान मोदी से मुलाकात की थी और उन्हें राष्ट्रपति की ओर से भेजा निमंत्रण पत्र दिया था. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच व्यापार 2017 में 3.5 अरब डॉलर पहुंच गया. 

मिस्र में भारतीय कंपनियों का निवेश 3.5 अरब
उन्होंने कहा कि मिस्र में भारतीय कंपनियों का संयुक्त निवेश 3.5 अरब है. तागिल्दिन ने कहा, ‘‘दोनों सरकारों ने द्विपक्षीय संबंध के लिए ठोस आधार बनाने के वास्ते कई कदम उठाए हैं और उद्योग समुदाय इस सहयोग को आगे ले जा सकता है.’’ रक्षा सहयोग पर उन्होंने कहा, ‘‘भारत विभिन्न क्षेत्रों में अहम साझेदार है और रक्षा सहयोग बढ़ाने की भी संभावनाएं हैं.’’ 

(इनपुट-भाषा)