इतिहास और आधुनिक तकनीक का मिलन: Egyptian Mummy का Italy में CT Scan, खुलेगा दशकों पुराना राज
topStorieshindi

इतिहास और आधुनिक तकनीक का मिलन: Egyptian Mummy का Italy में CT Scan, खुलेगा दशकों पुराना राज

ममी प्रोजेक्ट रिसर्च की निदेशक सबीना मालगोरा (Sabina Malgora) ने कहा कि ममी व्यावहारिक रूप से एक जैविक संग्रहालय हैं, वे एक टाइम कैप्सूल की तरह हैं. उन्होंने कहा कि आधुनिक मेडिकल शोध के लिए पुरानी बीमारियों के बारे में जानना महत्वपूर्ण है और यही प्रयास किया जा रहा है.

इतिहास और आधुनिक तकनीक का मिलन: Egyptian Mummy का Italy में CT Scan, खुलेगा दशकों पुराना राज

मिलान: इटली (Italy) के मिलान में इतिहास और आधुनिक तकनीक का मिलन हो रहा है, ताकि दशकों पुराने रहस्यों से पर्दा हटाया जा सके. इसके लिए मिस्र (Egypt) स्थित सिविक आर्कियोलॉजिकल म्यूजियम (Civic Archaeological Museum) से एक ममी (Mummy) को मिलान लाया गया है. यह ममी मिस्र के एक प्राचीन पुरोहित आन्खेखोंसू (Ankhekhonsu) की है. यहां रिसर्च प्रोजेक्ट के तहत ममी का CT स्कैन किया गया. शोधकर्ताओं का मानना है कि इससे कई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकेंगी. 

Customs के बारे में मिलेगी जानकारी

हमारी सहयोगी वेबसाइट WION में छपी खबर के अनुसार, प्राचीन पुरोहित आन्खेखोंसू (Ancient Egyptian Priest Ankhekhonsu) की ममी को हाल ही में मिलान के Policlinico अस्पताल लाया गया और उसका CT स्कैन किया गया. शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे ममी को दफन करने के 3000 साल पुराने रीति-रिवाजों के बारे में जानने में मदद मिलेगी. इसके अलावा कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारी मिलने की भी उम्मीद है.

ये भी पढ़ें -परागण के समय पेड़ भी फैला सकते हैं Coronavirus, निकोसिया यूनिवर्सिटी के शोध में चौंकाने वाला खुलासा

Time Capsule हैं Mummy 

ममी प्रोजेक्ट रिसर्च की निदेशक सबीना मालगोरा (Sabina Malgora) ने कहा कि ममी व्यावहारिक रूप से एक जैविक संग्रहालय हैं, वे एक टाइम कैप्सूल की तरह हैं. उन्होंने कहा कि आधुनिक मेडिकल शोध के लिए पुरानी बीमारियों/घावों के बारे में जानना महत्वपूर्ण है और यही प्रयास किया जा रहा है. शोधकर्ताओं का मानना है कि वे मिस्र के पुजारी के जीवन और मृत्यु को रीकन्स्ट्रक्ट कर सकते हैं और समझ सकते हैं कि शरीर को ममी बनाने के लिए किस प्रकार के उत्पादों का उपयोग किया गया था.

ऐसे चला Name का पता

ममी के नाम की जानकारी 900 और 800 ईसा पूर्व के ताबूत से मिलती है, जहां आन्खेखोंसू - जिसका अर्थ है 'भगवान खोंसू जीवित है' - पांच बार लिखा गया है. सबीना मालगोरा ने कहा कि ममी की बीमारियों और घावों का अध्ययन आधुनिक चिकित्सा अनुसंधान के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण और फायदेमंद है. क्योंकि शोधकर्ता ‘अतीत के कैंसर या धमनीकाठिन्य (Arteriosclerosis)’ का अध्ययन कर सकते हैं और यह आधुनिक शोध के लिए उपयोगी हो सकता है.

 

Trending news