close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिना किसी समझौते के ब्रेक्जिट योजना पर तेजी से आगे बढ़ रहा है यूरोपीय संघ

प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने इस हफ्ते ब्रिटेन की संसद में ब्रेक्जिट को लेकर होने वाले वोट को तब रद्द कर दिया जब यह स्पष्ट हो गया कि पिछले महीने यूरोपीय संघ के साथ उनकी जिस सौदे पर सहमति बनी है, उसे खारिज कर दिया जाएगा. 

बिना किसी समझौते के ब्रेक्जिट योजना पर तेजी से आगे बढ़ रहा है यूरोपीय संघ
फाइल फोटो

ब्रसेल्स: यूरोपीय संघ के नेताओं ने ब्रेक्जिट के संबंध में प्रधानमंत्री टेरीजा मे के समझौते पर बात बन पाने को लेकर शुक्रवार को संशय प्रकट किया और उन्होंने बिना किसी समझौते के ब्रिटेन को संघ से बाहर करने की अपनी योजना पर तेजी से काम करना शुरू कर दिया है. मे ने इस हफ्ते ब्रिटेन की संसद में ब्रेक्जिट को लेकर होने वाले वोट को तब रद्द कर दिया जब यह स्पष्ट हो गया कि पिछले महीने यूरोपीय संघ के साथ उनकी जिस सौदे पर सहमति बनी है, उसे खारिज कर दिया जाएगा. 

अपने यूरोपीय साझेदारों से कुछ छूट मिल पाने की उम्मीद में उन्होंने ब्रसेल्स की यात्रा भी की, लेकिन ईयू नेताओं ने उनके समझौते पर फिर से किसी भी तरह की बातचीत के प्रयासों को खारिज कर दिया था. बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल ने कहा, ''पूरी निष्पक्षता से हमें कल जो संकेत मिले, वे ब्रिटेन की ओर से चाहे जा रहे समझौते को लेकर कोई खास आश्वासन देने वाले नहीं लगते.'' संसद में सौदे को पारित करा पाने में मे को सफलता मिलने के बारे में शक जताते हुए मिशेल ने कहा, ''हम सभी तरह की कल्पनाओं के लिए तैयारी करने को लेकर निश्चित हैं, इसमें किसी समझौते पर नहीं पहुंचने की कल्पना भी शामिल है.''

विश्व के सबसे बड़े व्यापार खंड- 28 राष्ट्रों वाले यूरोपीय संघ से आज तक कोई भी देश बाहर नहीं हुआ है और इससे बाहर निकलने के नियम बहुत संक्षिप्त हैं. इस हफ्ते यूरोप की शीर्ष अदालत ने फैसला दिया था कि अगर ब्रिटेन संघ से बाहर नहीं होना चाहता, तो वह अपना मन बदल सकता है. एक चीज साफ है कि 29 मार्च को ब्रेक्जिट होगा. हालांकि, परिवर्तन अवधि के दौरान ब्रिटेन को करीब दो और संभवत: चार साल की राहत मिल सकती है. 

कोई समझौता नहीं होने की संभावना ने बाजार एवं ब्रिटिश पाउंड को हिलाकर रख दिया है और निवेशकों एवं कारोबारों के लिए अनिश्चितता पैदा कर दी है. ब्रेक्जिट से ब्रिटेन करीब 750 अंतरराष्ट्रीय समझौतों से बाहर हो जाएगा जो उसने अपनी 40 साल की सदस्यता में किए थे. इनमें से एक ईयू का विमानन बाजार है. बिना किसी समझौते के ब्रिटिश विमानों को 30 मार्च को यूरोप में उतरने की इजाजत नहीं मिलेगी, न ही यूरोपीय विमान ब्रिटेन में उतर पाएंगे. 

क्रोएशिया के प्रधानमंत्री एंड्रेज प्लेनकोविक ने कहा, ''अगर कोई जरूरत होगी तो हम हमेशा मिल सकते हैं.'' लक्जमबर्ग के प्रधानमंत्री जेवियर बेटेल ने ब्रिटेन के सांसदों से अपने नागरिकों के हित को ध्यान में रखने की अपील की. स्कॉटलैंड की प्रथम मंत्री निकोला स्टरगियोन ने ट्वीट किया कि मे “ने कोशिश की, उसके लिए उन्हें श्रेय, लेकिन उम्मीद के अनुरूप ईयू फिर से बातचीत के लिए तैयार नहीं है.”

(इनपुट भाषा से)