अंतरिक्ष में इश्क वाला रिस्क! स्पेस स्टेशन पर बॉयफ्रेंड से झगड़ा, रची खौफनाक साजिश
X

अंतरिक्ष में इश्क वाला रिस्क! स्पेस स्टेशन पर बॉयफ्रेंड से झगड़ा, रची खौफनाक साजिश

रूस की अंतरिक्ष एजेंसी ने 2 वर्षों की जांच के बाद ये बताया है कि उसके मॉड्यूल में ये दो मिलिमीटर बड़ा छेद अमेरिका की अंतरिक्ष यात्री सेरेना चांसलर ने किया था. इसके लिए उन्होंने एक ड्रिल की मदद ली थी, 

 

अंतरिक्ष में इश्क वाला रिस्क! स्पेस स्टेशन पर बॉयफ्रेंड से झगड़ा, रची खौफनाक साजिश

नई दिल्ली: आपने अपने आस पास ऐसी कई कहानियां देखी होंगी, जिनमें लोग प्रेम संबंधों की वजह से एक दूसरे को नुकसान पहुंचाते हैं और कई बार उनका भी नुकसान कर देते हैं जिनका इससे कोई लेना देना नहीं होता लेकिन क्या आप प्रेम संबंधों की वजह से अंतरिक्ष में ऐसी लड़ाई की कल्पना कर सकते हैं? रूस की अंतरिक्ष एजेंसी का आरोप है कि वर्ष 2018 में अमेरिका की एक महिला अंतरिक्ष यात्री ने इंटरनेशनल स्पेस सेंटर से जुड़े रूस के एक मॉड्यूल में ड्रिल से छेद कर दिया था और इसकी वजह ये थी कि ये अंतरिक्ष यात्री घर वापस लौटना चाहती थी क्योंकि उनका स्पेस स्टेशन पर ही मौजूद अपने एक बॉयफ्रेंड से झगड़ा हो गया था.

अंतरिक्ष यान में हो सकती थी ऑक्सीजन की कमी 

रूस की अंतरिक्ष एजेंसी ने 2 वर्षों की जांच के बाद ये बताया है कि उसके मॉड्यूल में ये दो मिलिमीटर बड़ा छेद अमेरिका की अंतरिक्ष यात्री सेरेना चांसलर ने किया था. इसके लिए उन्होंने एक ड्रिल की मदद ली थी, इससे रशियन मॉड्यूल का एयर प्रेसर कम हो गया था.अगर ऐसा दो हफ्तों तक होता रहता तो अंतरिक्ष यान में ऑक्सीजन की कमी हो जाती और इससे अंतरिक्ष यात्रियों की मौत भी हो सकती थी लेकिन समय रहते इस छेद का पता चल गया और इसे फौरन भर दिया गया.

VIDEO

यह भी पढ़ें: 2024 से पहले UPA का 'खेला' खत्म, अगला चुनाव मोदी Vs ममता होगा?

कानूनी कार्रवाई की तैयारी में रूस 

हालांकि शुरुआत में ये थ्योरी भी आई थी कि ये छेद शायद अंतरिक्ष में उड़ते मलबे की वजह से हुआ है लेकिन जब इसकी फॉरेंसिक जांच की गई तो पता चला कि ये काम किसी इंसान ने ही किया है. अब रूस अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी पर अपने देश में कानूनी कार्रवाई की तैयारी कर रहा है. हालांकि NASA ने इन आरोपों को मनगढ़ंत बताया है और कहा है कि उसकी अंतरिक्ष यात्री बहुत प्रोफेशनल और सम्माननीय हैं और वो ऐसा नहीं कर सकतीं. लेकिन अगर ये खबर सच है तो आप ये समझ सकते हैं कि इंसान चाहे पृथ्वी पर हो या फिर पृथ्वी से 400 किलोमीटर ऊपर स्पेस स्टेशन पर उनका ठिकाना और आस-पास का माहौल तो बदल जाता है लेकिन चरित्र नहीं बदलता.

LIVE TV

Trending news