आस्‍ट्रेलियाई PM की मुश्किलें बढ़ीं, उपचुनाव में मिली करारी हार

ऑस्ट्रेलिया में राष्ट्रीय चुनावों से पहले आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल के लिए एक और बुरी खबर है.

आस्‍ट्रेलियाई PM की मुश्किलें बढ़ीं, उपचुनाव में मिली करारी हार
आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल. (फाइल फोटो)

सिडनी : आस्ट्रेलिया में राष्ट्रीय चुनावों से पहले आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल के लिए एक और बुरी खबर है. उपचुनावों में उनकी पार्टी को शिकस्त का सामना करना पड़ा और इसे सत्ता पर उनकी कमजोर होती पकड़ के तौर पर देखा जा रहा है. एक नए संवैधानिक नियम के तहत दोहरी नागरिकता वालों की संसद में नियुक्ति अवैध होने के चलते 5 सदस्यों को अपनी सदस्यता गंवानी पड़ी थी. इनमें से 4 विपक्षी राजनेता थे जबकि एक अन्य छोटे दल से था.

उपचुनाव में मिली करारी शिकस्‍त
शनिवार (29 जुलाई) को हुए उपचुनावों को टर्नबुल और विपक्षी लेबर नेता बिल शॉर्टन के लिए अहम परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा था और उदारवादी-राष्ट्रीय गठबंधन को उम्मीद थी कि वे इन चुनावों को जीतकर संसद में अपने मामूली बहुमत को और मजबूत कर पाएंगे. लेबर पार्टी के अपनी चारों सीटों को बरकरार रखने के संकेतों के बीच शॉर्टन निश्चित रूप से इस उपचुनाव में विजेता बनकर उभरे हैं.

2015 में संभाली थी सत्‍ता
मैलकम टर्नबुल ने 2015 में आस्ट्रेलिया के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की थी. 8 साल में वह देश के 5वें प्रधानमंत्री बने. सत्तारूढ़ लिबरल पार्टी में आंतरिक विद्रोह के कारण टोनी एबॉट को सत्ता से बेदखल करने के बाद टर्नबुल को प्रधानमंत्री चुना गया था. गवर्नर जनरल पीटर कोसग्रोव ने टर्नबुल को शपथ दिलाई थी. एबॉट को चुनौती पेश करने वाले टर्नबुल ने पार्टी के अंदर अचानक हुए मतदान में नाटकीय ढंग से उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया था. देश के 29वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने के तत्काल बाद 60 वर्षीय नेता ने आस्ट्रेलिया को मंत्रणात्मक शैली का नए नेतृत्व देने का संकल्प लिया था. (इनपुट एजेंसी से)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.