ग्वाटेमाला ज्वालामुखी विस्फोट: राख और मलबे से निकाले गए शव, मृतकों की संख्या बढ़कर 69 हुई

 ग्वाटेमाला के फुगो ज्वालामुखी में भीषण विस्फोट होने के बाद राख और मलबे से मंगलवार(5 जून) को और शवों को निकाला गया.

ग्वाटेमाला ज्वालामुखी विस्फोट: राख और मलबे से निकाले गए शव, मृतकों की संख्या बढ़कर 69 हुई
कोनरेड ने बताया कि 3,271 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है.(फोटो-Reuters)

अल रोदियो (ग्वाटेमाला): ग्वाटेमाला के फुगो ज्वालामुखी में भीषण विस्फोट होने के बाद राख और मलबे से मंगलवार(5 जून) को और शवों को निकाला गया. इस आपदा में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 69 पहुंच गई है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फोरेंसिक साइंसेज के निदेशक फेनुएल गार्सिया ने बताया कि 69 शव बरामद किए गए हैं और उनमें से 17 की पहचान कर ली गई है.  ग्वाटेमाला की आपदा एजेंसी कोनरेड ने कई सारे एहतियाती मानक जारी किए हैं. लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी है. ग्वाटेमाला शहर के हवाईअड्डा को बंद कर दिया गया. कोनरेड प्रवक्ता डेविड डे लियोन ने बताया कि दोपहर करीब दो बजे ज्वालामुखी में एक और विस्फोट हुआ.

राख के चलते सड़क संपर्क से कट चुके इलाकों से कम से कम 10 लोगों को हेलीकॉप्टरों के जरिए निकाला गया है. कोनरेड ने बताया कि 3,271 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है. वहीं, एएफपी की एक खबर के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि वह ज्वालामुखी विस्फोट से जानमाल को पहुंची क्षति को लेकर बहुत दुखी हैं.  उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र बचाव एवं राहत प्रयासों में मदद करने के लिए तैयार है. 

3 जून को हुआ था ज्वालामुखी में विस्फोट
रविवार(3 जून) को 3,763 मीटर ऊंचे ज्वालामुखी में विस्फोट हो गया जिससे आसपास के इलाकों में राख के बादल छा गये. अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि पर्वत के दक्षिण छोर पर समुदायों में पीड़ितों की तलाश फिर से शुरू होने के बाद मृतकों की संख्या बढ़ सकती है.

ग्वाटेमाला की आपदा प्रबंधन एजेंसी के सर्गियो कबानास ने कहा , ‘‘ कई लोग लापता है लेकिन हमें यह नहीं पता कि कितने लोग लापता हैं. ’’ संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि वह विस्फोट में लोगों की मौत और बड़े नुकसान से बहुत दुखी हैं. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र राष्ट्रीय बचाव एवं राहत प्रयासों में मदद करने के लिए तैयार है.

पहले दिन 25 थी मृतकों की संख्या
देश की आपदा प्रबंधन एजेंसी नेशनल कॉर्डिनेटर फॉर डिजास्टर रिडक्शन के प्रवक्ता ने एक व्हाट्सएप ग्रुप में कहा, ‘रात नौ बजे तक मृतकों की संख्या 25 थी.’ प्रवक्ता ने कहा कि लापता और मृतकों के लिए खोज एवं बचाव अभियान कम रोशनी और खतरनाक स्थितियों के कारण रद्द कर दिया गया है. ज्वालामुखी फटने से आसपास के इलाके में आसमान में राख फैल गई. इससे पहले आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रमुख सर्गियो कबानास और राष्ट्रपति जिम्मी मोराल्स ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि घटना में सात लोगों की मौत हो गई, 20 घायल हो गए और 17 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए.,

(इनपुटःभाषा)