close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हाफिज की नई साज़िश! टेरर फंडिंग के लिए मिलाया दूसरे संगठनों से हाथ

आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का नया प्लान सामने आया है. सूत्रों के मुताबिक, टेरर फंडिंग के लिए आतंकी संगठन ने दूसरे संगठनों से हाथ मिलाया है. 

हाफिज की नई साज़िश! टेरर फंडिंग के लिए मिलाया दूसरे संगठनों से हाथ
जमात-उद-दावा मनी लॉन्ड्रिंग के लिए दूसरे संगठन से मदद ले रहा है.

नई दिल्ली: आपने जैश सरगना मसूद अजहर की पुलवामा वाली साजिश देखी लेकिन क्या आपको मालूम है कि इन दिनों आतंकी संगठन लश्कर ए तैयब्बा और जमात उद दावा चीफ हाफिज सईद किन साजिशों को अंजाम देने में जुटा है. खुफिया रिपोर्ट है कि आतंकी संगठन जमात-उद-दावा ने टेरर फंडिंग के लिए आतंकी संगठन ने दूसरे संगठनों से हाथ मिलाया है.

जमात-उद-दावा मनी लॉन्ड्रिंग के लिए दूसरे संगठन से मदद ले रहा है. जमात उद दावा पर हाल ही में प्रतिबंध लगा था. पाकिस्तान ने हाफिज सईद को गिरफ्तार किया था. FATF की ब्लैक लिस्ट से बचने के लिए पाकिस्तान ने यह सब नाटक किया. हाफिज की नई साज़िश से पाकिस्तान बेनकाब हो गया है. 

दिल्ली से कश्मीर तक 'नापाक प्लान'!
वैसे आतंकी संगठन जैश की दोबारा पुलवामा जैसे हमले की साज़िश है. कश्मीर में दोबारा पुलवामा जैसे अटैक का प्लान है. दो दिन पहले 6-7 आतंकवादियों ने घुसपैठ की है. दिल्ली में 15 अगस्त को लेकर हाई अलर्ट है. 

 

 

कश्‍मीर पर पाकिस्‍तान ने कबूल की हार
उधर, जम्‍मू-कश्‍मीर में आर्टिकल 370 खत्‍म होने के बाद चीन, अमेरिका समेत विश्‍व बिरादरी में इस मुद्दे को उठाने के बावजूद पाकिस्‍तान को कोई समर्थन नहीं मिला. चीन ने उसको नसीहत दी तो अमेरिका ने भी पल्‍ला झाड़ लिया. संयुक्‍त राष्‍ट्र के वरिष्‍ठ अधिकारियों ने तो कश्‍मीर मुद्दे पर जवाब देना भी जरूरी नहीं समझा. भारत की इस बड़ी कामयाबी को स्‍वीकार करते हुए आखिरकार पाकिस्‍तान ने हार मान ली है.

ये भी पढ़ें: कश्‍मीर पर पाकिस्‍तान ने कबूल की हार, कहा- दुनिया के किसी मुल्‍क ने नहीं दिया साथ

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ये बात स्‍वीकार करते हुए कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद के पांचों स्‍थायी सदस्‍यों (P5) के समक्ष यदि वह कश्‍मीर मुद्दे को उठाता है तो उसको समर्थन मिलना मुश्किल है. कुरैशी ने यहां तक कहा कि मुस्लिम देशों से भी उनको समर्थन मिलता नहीं दिख रहा है.