Breaking News
  • कोरोना से मृत्यु दर 1% से कम करने का लक्ष्य: PM मोदी
  • आरोग्य सेतु ऐप के जरिए संक्रमित लोगों के करीब पहुंच सकते हैं: PM मोदी
  • 72 घंटे में संक्रमण की जानकारी से खतरा कम: PM मोदी
  • देश में फिलहाल हर रोज 7 लाख टेस्टिंग: PM मोदी

Exclusive: पाकिस्तान में हिज्बुल सरगना सैयद सलाहुद्दीन पर जानलेवा हमला, हालत गंभीर

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI पर हमले की साजिश रचने का शक है.

Exclusive: पाकिस्तान में हिज्बुल सरगना सैयद सलाहुद्दीन पर जानलेवा हमला, हालत गंभीर

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद (Islamabad) में हिज्बुल सरगना सैयद सलाहुद्दीन (Syed Sallauddin) पर जानलेवा हमला हुआ है. बताया जा रहा है कि सलाहुद्दीन गंभीर रूप से घायल हो गया है. हमला 25 मई को हुआ 11 बजे हुआ. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI पर हमले की साजिश रचने का शक है. बताया जा रहा है कि पिछले कई दिनों से ISI सलाहुद्दीन से नाराज थी जिसके चलते उसपर जानलेवा हमला करवाया गया. 

फिलहाल सलाउद्दीन के स्वास्थ्य के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. सूत्रों का मानना है कि इस हमले का सीधा कनेक्शन ISI और सलाउद्दीन के बीच हालिया गतिरोध से है. 

ये भी पढ़ें- भारत-चीन विवाद का फायदा उठाना चाहता है पाकिस्तान, रच रहा बड़े आतंकी हमले की साजिश

सूत्रों का कहना है कि हाल के दिनों में हिज्बुल मुजाहिदीन को ISI का समर्थन नहीं मिलने से सलाउद्दीन नाखुश था. हिज्बुल के आतंकियों को प्रशिक्षण और हथियार उपलब्ध नहीं कराने की कई रिपोर्टें भी सामने आई हैं. सूत्रों का यह भी मानना है कि सलाउद्दीन 6 मई को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में हिज्बुल कमांडर रियाज नाइकू की हत्या से दुखी था और पाकिस्तानी एजेंसियों से नाखुश भी था. 

कौन है सैयद सलाहुद्दीन ?
- आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन का चीफ है सलाहुद्दीन
- यूनाइटेड जिहाद काउंसिल का चेयरमैन भी है सलाहुद्दीन 
- 18 फरवरी 1946 को जम्मू-कश्मीर के बडगाम में जन्म
- कॉलेज की पढ़ाई के बाद आतंकवाद का रास्ता चुन लिया
- कश्मीर छोड़कर सलाहुद्दीन ने पाकिस्तान में बेस बनाया
- पठानकोट एयरबेस आतंकी हमले में सलाहुद्दीन का हाथ 
- अमेरिका ने सलाहुद्दीन को वैश्विक आतंकी घोषित किया है

खबरों के मुताबिक, हाल ही में PoK में हिज्बुल के आतंकियों से बातचीत के दौरान सलाउद्दीन ने ISI की खुलकर आलोचना की थी. PoK में सूत्रों का मानना है कि ISI ने सलाउद्दीन को सबक सिखाने और दूसरे आतंकियों को डराने के मकसद से उसपर हमले की योजना बनाई.