हांगकांग पुलिस घेराबंदी के 11 दिन बाद यूनिवर्सिटी में घुस पाई

एफे न्यूज के अनुसार, 18 नवंबर को उग्र प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई, जिसके बाद कैंपस ने लड़ाई के लिए ग्राउंड जीरो का काम किया. हालांकि, यह अब सर्वनाशक स्थिति की तरह प्रतित होता है, जहां जीवन रूक सा गया है.

हांगकांग पुलिस घेराबंदी के 11 दिन बाद यूनिवर्सिटी में घुस पाई
प्रतीकात्मक तस्वीर साभार- रायटर

हांगकांग: हांगकांग पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी में पुलिस ने 11 दिनों की घेराबंदी के बाद गुरुवार को प्रवेश किया. परिसर में पुलिस का अभिवादन मोलोटोव कॉकटेल (ज्वलनशील पदार्थ), फर्नीचर से बने बैरिकेड, मास्क, हेलमेट, छतरियां, बैकपैक्स और एक गंदे वातावरण के साथ हुआ.

एफे न्यूज के अनुसार, 18 नवंबर को उग्र प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई, जिसके बाद कैंपस ने लड़ाई के लिए ग्राउंड जीरो का काम किया. हालांकि, यह अब सर्वनाशक स्थिति की तरह प्रतित होता है, जहां जीवन रूक सा गया है.

अंदर छात्र एक असली लड़ाई के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. उन्होंने रेलिंग में फैंकने के लिए गमले, ईंटें और पत्थरों को जमा कर के रखा है. इतना ही नहीं, उनके पास बोतलों के साथ मोलोटोव कॉकटेल फैक्ट्री का जखीरा, केमिकल और पेट्रोल है.

उन्होंने कैटापुल्ट्स (एक प्रकार का लकड़ी का हथियार) का निर्माण किया है और सभी प्रवेशद्वारों पर बैरिकेड्स बनाने के लिए विश्वविद्यालय के फर्नीचरों को भी तोड़ दिया है.

परिसर में हर जगह कपड़े, खाद्य आपूर्ति और यहां तक कि आधे-अधूरे इंस्टेंट सूप पैकेट के ढेर देखे जा सकते हैं. अभी भी ऐसा माना जा रहा है कि यहां लगभग 20 कट्टरपंथी प्रदर्शनकारी हो सकते हैं. इस बात की संभावनाएं बेहद कम है कि वे यहां से भाग गए हो.

सुबह 8 बजे (स्थानीय समय अनुसार) सादी वर्दी में केवल पुलिस वेस्ट ऊपर से पहने पुलिसकर्मियों ने परिसर में प्रवेश किया. इस दौरान एक अग्निशमन की टीम भी मौके पर मौजूद रही ताकि छात्रों द्वारा प्रयोगशाला से चुराए हुए विस्फोटक केमिकल, पेट्रोल बम जैसे वस्तु के प्रयोग के बाद स्थिति में नियंत्रण लाया जा सके.

ये भी देंखें-: