नेपाल में चीन के सहयोग से निर्मित पनबिजली परियोजना शुरू, 60 MW बिजली का होगा उत्‍पादन

ओली ने प्रधानमंत्री भवन में 60 मेगावाट पनबिजली उत्पादन परियोजना के प्रतीकात्मक बटन को दबाकर इसका उद्घाटन किया और दूसरे अधिकारियों के साथ परियोजना के वीडियो को देखा.

नेपाल में चीन के सहयोग से निर्मित पनबिजली परियोजना शुरू, 60 MW बिजली का होगा उत्‍पादन
फोटो- IANS

बीजिंग : नेपाल (Nepal) में चीनी कचोपा ग्रुप लिमिटेड कंपनी द्वारा निर्मित अपर त्रिशूल 3ए पनबिजली परियोजना (Upper Trishuli 3A Hydroelectric Project) की सोमवार को औपचारिक तौर पर शुरू कर दी गई. एक विशेष कार्यक्रम में नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने राजधानी काठमांडू में इसकी शुरुआत की. ओली ने प्रधानमंत्री भवन में 60 मेगावाट पनबिजली उत्पादन परियोजना के प्रतीकात्मक बटन को दबाकर इसका उद्घाटन किया और दूसरे अधिकारियों के साथ परियोजना के वीडियो को देखा.

ओली ने कहा कि अपर त्रिशूल पनबिजली के इस्तेमाल से देश में बिजली के आयात में कमी आएगी और आर्थिक विकास को मजबूती मिलेगी. औद्योगीकरण और कृषि आधुनिकीकरण को इससे मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि अन्य निमार्णाधीन पनबिजली परियोजनाओं के पूरा होने के बाद नेपाल का अर्थतंत्र उन्नत होगा.

अपर त्रिशूल पन बिजलीघर चीन सीमा से लगे नेपाल के पहाड़ी क्षेत्र रसुवा क्षेत्र में स्थित है. यह चीन के तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के सीमावर्ती चिलोंग कांउटी से 32 किमी दूर है.

इस पन बिजलीघर में कुल दो जेनरेटर सेट हैं. हर एक की उत्पादन क्षमता 30 मेगावाट है. इस परियोजना के निर्माण के लिए कुल 12 करोड़ 50 लाख अमेरिकी डॉलर की धनराशि का निवेश किया गया. इस वर्ष मई और अगस्त महीने में दोनों जेनरेटर सेट का संचालन शुरू हुआ. बताया गया है कि इस पन बिजलीघर से नेपाल में करीब आठ प्रतिशत की बिजली मांग पूरी होगी. इस परियोजना का निर्माण जून 2011 में शुरू हुआ.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.