ट्रंप का दावा फेल, स्कूल खुलने के पहले ही दिन स्टूडेंट निकला कोरोना पॉजिटिव

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  (US President Donald Trump) ने सार्वजनिक स्कूलों को फिर से खोलने को लेकर दावा किया था कि ऐसा करना पर्याप्त सुरक्षित है.

ट्रंप का दावा फेल, स्कूल खुलने के पहले ही दिन स्टूडेंट निकला कोरोना पॉजिटिव
(फाइल फोटो)

इंडियाना: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने स्कूलों को फिर से खोलने को लेकर दावा किया था कि ऐसा करना पूरी तरह से सुरक्षित है. यहां तक कि उन्‍होंने तर्क भी दिया था कि वो अपने बेटे और 10 पोते-पोतियों को स्‍कूल भेजने को लेकर भी पूरी तरह सहज हैं. लेकिन स्‍कूल खुलने के पहले ही दिन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दावे फेल हो गए हैं.

अमेरिकी राज्य इंडियाना (US state of Indiana) के एक स्कूल ने 2020-21 के शैक्षणिक वर्ष में छात्रों का पहले दिन स्वागत किया. उन्‍हीं छात्रों (Students) में से एक का परीक्षण कोरोना वायरस (Coronavirus) पॉजिटिव आ गया है. लिहाजा अब कई बच्‍चों को क्‍वारंटीन होना पड़ा है. 

ये भी पढ़ें: कोरोना से जंग जीतने के बाद Amitabh Bachchan ने किया ये पहला ट्वीट

जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बार-बार यह कहा था कि स्‍कूलों को फिर से खोलना सुरक्षित है.

इमरजेंसी प्रोटोकॉल शुरू किया 
यह घटना इंडियानापोलिस से 20 मील पूर्व में ग्रीनफील्ड-सेंट्रल कम्युनिटी स्कूल कॉर्पोरेशन की है. यहां  स्कूल शुरू होने के कुछ घंटों बाद ही एक छात्र को अपनी कोरोना वायरस रिपोर्ट मिली, जिसमें वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया था. 

प्रशासकों ने तुरंत छात्रों को आइसोलेट करने और उनके संपर्क में आने वाले सभी माता-पिता और अन्य लोगों को सूचित करने का आपातकालीन प्रोटोकॉल (Emergency Protocol) शुरू किया.

अधीक्षक हेरोल्ड ओलिन ने सभी स्‍टूडेंट्स के माता-पिता को एक ईमेल भेजा और उन्हें स्थिति के बारे में सूचित किया. साथ ही सभी से अगले 14 दिनों के लिए स्वयं को आइसोलेट करने का भी आग्रह किया.

वहीं कोरोना पॉजिटिव आए बच्चे को नर्स के वार्ड में आइसोलेट कर दिया गया था. इसके अलावा सभी हॉल और कक्षाओं को तुरंत सैनिटाइज किया गया. संक्रमित छात्र के संपर्क में आने वाले लोग 14 दिनों के क्‍वारंटीन के बाद फिर से स्‍कूल आ सकते हैं. हालांकि ऐसे स्‍टूडेंट्स और फैकल्‍टी मेंबर्स जो संक्रमित छात्र के निकट संपर्क में नहीं थे, वे अगले दिन से अपनी कक्षाएं जारी रख सकते थे.

स्कूल के अधिकारियों ने बताया कि स्कूल ने नए शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत में छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं के लिए विकल्प दिया था, लेकिन केवल 600 छात्रों ने ही घर पर रहकर पढ़ने का ये विकल्‍प चुना.

ये भी देखें-